Top
Action India

हिमाचल सरकार की कोरोना संबंधी तैयारियों पर माकपा ने उठाए सवाल

शिमला । एएनएन (Action News Network)

हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए माकपा ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है। माकपा का कहना है कि कोरोना से निपटने को लेकर की गई सरकार की तैयारियां नाकाफी हैं। गत दो दिन में कोरोना के पांच मरीज पाए गए हैं और वे सभी किसी अन्य स्थान से अपने घर आए थे। राज्य सरकार न तो कोरोना प्रभावित लोगों के उचित इलाज के लिए तैयार है और न ही संभावित लोगों के उचित मात्रा में समय रहते टेस्ट कर पा रही हैं।

माकपा के राज्य सचिवालय सदस्य संजय चैहान ने गुरूवार को कहा कि राजधानी शिमला में सरकाघाट के युवक की कोरोना से हुई मृत्यु के पश्चात उसके दाह संस्कार को लेकर प्रशासन द्वारा की गई लापरवाही से भी सरकार के इंतजामों व कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगता है। इस मामले में यह जांच का विषय है कि जिस जल्दबाजी में इस युवक का दाह संस्कार किया गया सरकार व प्रशासन ने डब्ल्यू एच ओ व केंद्र सरकार के द्वारा कोरोना से मृतक के दाहसंस्कार को लेकर जारी दिशानिर्देशों की अवहेलना क्यों की गई और इसे एकदम अफरातफरी में क्यों किया गया?

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में सरकार ने हजारों की संख्या में प्रदेश के बाहर से प्रदेश के अन्दर आने के लिए लोगों को पास जारी कर इजाजत प्रदान की है। परन्तु जो प्रोटोकॉल इसके लिए तय किया गया है उसे लागू करने के लिए सरकार व प्रशासन संजीदा नहीं है। सरकार को स्थानीय स्तर पर क्वारंटाइन केंद्र का गठन कर इनमें सभी मूलभूत आवश्यकताओं का प्रबंध करना चाहिए था व बाहर से आए लोगो को इसमे क्वारंटाइन कराने का कार्य प्राथमिकता से कर इनकी टेस्टिंग का पर्याप्त प्रबन्ध करना चाहिए था।

उन्होंने सरकार के मांग उठाई है कि प्रदेश के बाहर से लाए सभी लोगों को क्वारंटाइन करते हुए इसके लिए यह निर्धारित सभी प्रकार के प्रोटोकॉल व दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन किया जाए तथा टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जाए और संभावित व प्रभावित को तुरन्त एकांत में ले जाकर उनका इलाज करवाया जाए।

Next Story
Share it