Top
Action India

छत्तीसगढ़ में सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ रही धज्जियां, मुर्गे की दुकानों पर उमड़ी भीड़

छत्तीसगढ़ में सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ रही धज्जियां, मुर्गे की दुकानों पर उमड़ी भीड़
X

रायपुर। एएनएन (Action News Network)

कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने की मुहिम छत्तीसगढ़ में बेअसर होने लगी है। 21 दिनों के भारत लॉकडाउन की आखिरी तारीख 14 अप्रैल में अब सिर्फ 5 दिन ही शेष रह गए हैं। ऐसे में छ्त्तीसगढ़ में लोग बेधड़क सड़कों पर निकलने लगे हैं।गुरुवार को राजधानी रायपुर में मटन, मुर्गे की दुकानों को भी खोलने की छूट दे दी गई। जिसकी वजह से मुर्गा खाने वाले लोगों की भीड़ दुकानों पर उमड़ पड़ी।

कोरोना संकट के बीच सोशल डिस्टेंसिंग और सरकारी दिशा निर्देशों की भी धज्जियां उड़ायी जा रही है। राजधानी में मुर्गे की दुकानों पर भीड़ का आलम ऐसे समय में है, जब केंद्र सरकार ने कोरोना से निबटने के लिए और सख्ती बरतने की अपील की है। गुरुवार को रायपुर की सड़कों पर पुलिस भी नजर नहीं आयी। मटन, मुर्गा की दुकानों पर भीड़ बढ़ने का एक कारण यह भी है कि राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया पर मुर्गा और अंडा खाने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट कर मुर्गा खाने की अपील की है।

इस अपील के बाद ही सोशल डिस्टेंसिंग खत्म कर लोग दुकानों पर टूट पड़ें हैं। हालांकि मुख्यमंत्री खुद प्रधानमंत्री से अपील कर चुके हैं कि कोरोना के खतरे को देखते हुए लॉकडाउन की समय सीमा 14 अप्रैल से आगे बढ़ायी जाए। उल्लेखनीय है कि कोरोना के शुरुआती समय में मुर्गा में कोरोना वायरस की अफवाहों के बाद लोगों ने मुर्गा खाना छोड़ दिया था। छत्तीसगढ़ में लाखों की संख्या में मुर्गे फेंक दिये गए। कई जगहों पर मुर्गे फ्री में भी बांटे जा रहे थे, लेकिन लोग कोरोना के डर से नहीं खा रहे थे।

Next Story
Share it