Top
Action India

गुवाहाटी समेत कई इलाकों में दिन के समय कर्फ्यू में ढील

गुवाहाटी समेत कई इलाकों में दिन के समय कर्फ्यू में ढील
X

गुवाहाटी। एएनएन (Action News Network)

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर राज्य में बुधवार से जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच शनिवार को हालात धीरे-धीरे सामान्य होते नजर आ रहे हैं। हालांकि, अभी भी कुछ इलाकों में स्थिति बेहद तनावपूर्ण बनी हुई है। गुवाहाटी, डिब्रूगढ़, जोरहाट, तिनसुकिया, तेजपुर आदि जिलों में आंदोलनकारियों के हिंसक प्रदर्शन के मद्देनजर बुधवार की शाम और गुरुवार को क्रमश: कर्फ्यू लगाया गया था।

शनिवार को स्थिति में सुधार होते देख कर्फ्यू वाले इलाकों में दिन के समय प्रशासन ने कर्फ्यू में ढील दी है। इसकी वजह से छोटी दुकानें खुलीं हैं तथा सड़कों पर निजी वाहनों के साथ ही सार्वजनिक वाहनों की आवाजाही भी दिखाई देने लगी। कामरूप (मेट्रो) जिला प्रशासन ने गुवाहाटी में शनिवार की सुबह 9 से शाम 4 बजे तक कर्फ्यू में ढील दी है। इसके चलते लोग अपने घरों से निकलकर खाने-पीने के सामानों की खरीदारी में जुट गए हैं। सड़कों पर सिटी बसों के सीमित संख्या में चलने से शहर में चहल-पहल धीरे-धीरे दिखाई देने लगी है। हिंसा प्रभावित डिब्रूगढ़ जिले में कर्फ्यू में सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक की रियायत दी गई है।

शुक्रवार को भी गुवाहाटी, डिब्रूगढ़ व अन्य इलाकों में कर्फ्यू में ढील दी गई थी। आमतौर पर सभी इलाकों में स्थिति सामान्य रही जबकि डिब्रूगढ़ में फिर से एक बार हिंसक प्रदर्शन हुआ। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को रबड़ की गोलियां चलानीं पड़ीं।

ऑल असम छात्र संस्था (आसू) के आह्वान पर नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में आरंभ हुए आंदोलन में कई संगठन हिस्सा ले रहे हैं। कुछ छुपे हुए तौर पर आंदोलन की आड़ में तोड़फोड़, हिंसा फैलाने जुटे हुए हैं। इस बात को आंदोलनकारी संगठन भी मान रहे हैं तथा प्रशासन भी इसको स्वीकार कर रहा है।

आंदोलन के चलते लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। स्कूलों और कालेजों को आगामी 22 दिसम्बर तक बंद कर दिया गया है। सरकारी कामकाज भी पूरी तरह से ठप दिखाई दे रहा है। हिंसक आंदोलन को रोकने के लिए पुलिस लाठीचार्ज और हवाई फायरिंग में गुवाहाटी में 3 तथा डिब्रूगढ़ में एक व्यक्ति की मौत होने की जानकारी सामने आई है।

कानून व्यवस्था को संभालने में पुलिस विभाग के विफल होने के मद्देनजर सरकार ने पुलिस विभाग में शुक्रवार की शाम को फिर से एक बड़ा फेरबदल किया है। इसमें कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों का तबादला किया गया है। हिंसा वाले इलाकों में केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की तैनाती के साथ ही 8 कॉलम सेना को तैनात किया गया है। सेना की तैनाती मुख्य रूप से गुवाहाटी, डिब्रूगढ़, मोरीगांव और शोणितपुर जिले में की गई है।

कामरूप (मेट्रो) जिला प्रशासन ने बताया है कि हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। अगर स्थिति यही बनी रही तो बहुत जल्द कर्फ्यू हटा लिया जाएगा। राज्य के 12 जिलों में आंदोलन को देखते हुए मोबाइल इंटरनेट सेवा निलंबित की गई है। हालांकि इसकी वजह से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इंटरनेट के बंद होने से मीडियाकर्मियों को भी काफी दिक्कतें हो रही हैं। बदले आधुनिक दौर में रिपोर्टिंग का सबसे आसान तरीका मोबाइल हो गया है। इंटरनेट बंद होने की वजह से दूरदराज के इलाकों से मीडियाकर्मियों को भी सूचनाएं नहीं मिल पा रही हैं। कुल मिलाकर राज्य में हालात सामान्य लेकिन तनावपूर्ण बने हुए है। आसू ने शांतिपूर्ण तरीके से अपना आंदोलन जारी रखने की घोषणा की है। इस दौरान कुछ अन्य संगठनों के बड़े नेताओं की गिरफ्तारी भी शुरू की गई है।

Next Story
Share it