Top
Action India

21 जून के बाद केंद्र सरकार कहां से देगी वैक्सीन: अरविंद केजरीवाल

21 जून के बाद केंद्र सरकार कहां से देगी वैक्सीन: अरविंद केजरीवाल
X

नई दिल्ली । एक्शन इंडिया न्यूज़

कोरोना महामारी के काल में अपने बयानों से जनता की सेवा कर रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अब नई बात परेशान कर रही है। उन्होंने पूछा है कि 'केंद्र सरकार ने 21 जून से वैक्सीन देने की बात कही है। लेकिन 21 जून के बाद वैक्सीन आएगी कहां से! यह बड़ा सवाल है।'

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को सिरसपुर स्थित नवनिर्मित ऑक्सीजन स्टोरेज सेंटर के निरीक्षण के दौरान कहा कि 'यह अच्छा है कि केंद्र सरकार ने 21 जून से वैक्सीन देने की बात कही है। हलांकि यह निर्णय उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के दबाव के बाद लिया है। लेकिन 21 जून के बाद वैक्सीन आएगी कहां से! ये बड़ा सवाल है।' इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वस्थ मंत्री सत्येन्द्र जैन भी मौजूद थे।

भले ही राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के मामलों में कमी देखने को मिल रही हो, लेकिन दिल्ली सरकार ने कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर पर तैयारी शुरू कर दी है। दिल्ली सरकार पिछले अनुभवों को ध्यान में रखते हुए ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा में व्यवस्था करने पर ध्यान दे रही है। इसी क्रम में गुरुवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सिरसपुर स्थित ऑक्सीजन स्टोरेज सेंटर का दौरा किया। यहां 57 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भंडारण क्षमता का क्रायोजेनिक टैंक लगाया जा रहा है। साथ ही 12.5 टन प्रतिदिन की उत्पादन क्षमता वाला ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट भी बन रहा है।

इस दौरान मुख्यमंत्री केजरीवाल ने देश में वैक्सीन की कमी पर की बात दोहराई, उन्होंने कहा कि ' इस समय देश मे वैक्सीन की बड़ी समस्या है। यह अच्छी चीज है कि केंद्र सरकार ने 21 जून से वैक्सीन देने की बात कही है। यह निर्णय उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के दबाव के बाद लिया है। लेकिन 21 जून के बाद कहां से आएगी वैक्सीन! ये बड़ा सवाल है। अगर वैक्सीन हमें उपलब्ध हो जाये तो हमने जो मॉडल दिल्ली में बनाया है ('जहां वोट वहां वैक्सीनेशन') उसे अगर पूरे देश में लागू किया जाए तो दो से तीन महीने में पूरे देश में वैक्सीनेशन किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारी के लिए शहर में अब तक 171 मीट्रिक टन (एमटी) की कुल क्षमता वाले तीन ऑक्सीजन भंडारण संयंत्र स्थापित किए गए हैं। "हमने अब तक 57 एमटी प्रत्येक के तीन ऑक्सीजन स्टोरेज प्लांट स्थापित किए हैं, जिनकी कुल क्षमता 171 एमटी है।


Next Story
Share it