Action India

हर जिले में औषधीय पौधरोपण कर हर्बल गार्डन विकसित करें : मंत्री कावरे

हर जिले में औषधीय पौधरोपण कर हर्बल गार्डन विकसित करें : मंत्री कावरे
X

  • आयुष राज्यमंत्री कावरे ने की वीसी के जरिये विभागीय समीक्षा

भोपाल । Action India News

आयुष राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रामकिशोर कावरे ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश के हर जिले में औषधीय पौधरोपण कर हर्बल गार्डन विकसित किया जाये, जिससे हर्बल गार्डन विकसित करने में मध्यप्रदेश का नाम देश में रोशन हो। कावरे ने कहा कि वे स्वयं किसानों को फलदार पौधों की तरह औषधीय पौधे लगाने के लिये भी प्रोत्साहित करेंगे।

यह बात राज्यमंत्री कावरे ने बुधवार को बालाघाट से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये आयुष विभाग की समीक्षा करते हुए कही। मंत्रालय में आयुष सचिव-सह-आयुक्त एम.के. अग्रवाल और सभी जिले एवं संभाग से आयुष अधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जुड़े थे।

हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर

राज्यमंत्री कावरे ने कहा कि चिन्हित 362 हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर्स को व्यवस्थित एवं आदर्श बनाया जाये। प्रदेश में अगले पाँच साल में 850 सेन्टर को चरणबद्ध तैयार किया जाना है। इसके लिये ग्राम पंचायतों की सहभागिता सुनिश्चित करते हुए भवन मरम्मत आदि के कार्य करवाये। उन्होंने बताया कि योग प्रशिक्षक की व्यवस्था मानदेय के आधार पर की जायेगी।

योग प्रशिक्षक-आयुष ग्राम

कावरे ने निर्देश दिये कि नवीन आयुष ग्राम समय-सीमा में प्रारंभ किये जाये। स्थापित आयुष ग्राम में कोई भी कोविड पेसेन्ट नहीं निकलने पर उन्होंने टीम को बधाई दी साथ ही उन्होंने कहा कि अच्छे काम करने वालों को सम्मानित किया जायेगा और लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्यवाही भी की सुनिश्चित की जायेगी।

उन्होंने कहा कि 45 चिन्हित आयुष ग्राम में नोडल अधिकारी और आयुष अधिकारी विजिट करें और संभागीय-जिला अधिकारी अपने निर्देशन में काम करवाये। कॉलेजों में नर्सरी विकसित की जाये जिससे औषधीय पौधे मिल सके। हर कॉलेज में एक नर्सरी विकसित हो।

आरोग्य कसायम काढ़ा

राज्यमंत्री कावरे ने कहा कि आरोग्य कसायम काढ़ा कोविड केयर सेन्टर के माध्यम से मरीजों को उपलब्ध कराया जाये। अभी तक 10 हजार से अधिक मरीजों को लाभांवित किया गया है। जिस पर भारत सरकार ने सराहना भी की है। काढ़े की कमी पर जिला कार्यालय अपनी मांग संभागीय अधिकारी के माध्यम से मुख्यालय भेज सकते हैं।

आयुष संजीवनी एप

राज्यमंत्री कावरे ने आयुष मंत्रालय के आयुष संजीवनी एप में फीडबेक दर्ज करने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी संभागीय अधिकारियों को जिले का दौरा करने नाईट हाल्ट करने और मॉनीटरिंग करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने बताया कि जल्द ही मेपआईटी द्वारा एप विकसित किया जा रहा है। जिसमें विभिन्न तरह की जानकारी का मुझे सीधे फीडबेक मिल सकेगा।

विशेषज्ञों का बेवीनॉर

कावरे ने कहा कि सभी 1700 से अधिक ओपीडी का संचालन शुरू किया जाये। ओपीडी के माध्यम से दवा और त्रिकटु चूर्ण उपलब्ध कराया जाये। ओपीडी में किस प्रकार की बीमारी के मरीज, पुरूष, महिला, बच्चे आदि आ रहे हैं, उस हिसाब से विशेषज्ञ उपलब्ध करवाये जायेंगे। कावरे ने कहा कि 16 तरह की बीमारियों को चिन्हित कर विशेषज्ञों का बेवीनॉर आयोजित किया जाये।

कम से कम एक विषय पर विशेषज्ञों का बेवीनॉर 15 अगस्त के पहले करें। विषय विशेषज्ञों के मास्टर ट्रेनर्स तैयार किये जाये, जिसके माध्यम से 30-30 के ग्रुप बनाकर ट्रेनिंग दी जाये।

आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश

राज्यमंत्री कावरे ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने में आयुष विभाग के योगदान की रूपरेखा 5 अगस्त तक तैयार करें। उन्होंने निर्माणाधीन भवनों को 6 माह में पूर्ण करने को कहा। साथ ही बजट का उपयोग समय-सीमा में करने के निर्देश दिये। ऑनलाइन क्लासेस पर प्राचार्यों को स्ट्रांग मॉनीटरिंग करने को कहा।

आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीरज यादव निलंबित

आयुष राज्यमंत्री रामकिशोर कावरे द्वारा 24 जुलाई को शासकीय आयुर्वेद औषधालय बाबई जिला होशंगाबाद के निरीक्षण के दौरान रिकार्ड संसाधरण में लापरवाही के चलते औषधालय में पदस्थ डॉ. नीरज यादव को बुधवार 29 जुलाई को राज्य शासन ने निलंबित कर दिया है। निरीक्षण के समय राज्यमंत्री कावरे ने निर्देश दिये थे। इस संबंध में आज आदेश जारी कर दिया गया है।

Next Story
Share it