Top
Action India

गुरुद्वारा दाताबंदी छोड में सालाना जोड कार्यक्रम संपन्न

गुरुद्वारा दाताबंदी छोड में सालाना जोड कार्यक्रम संपन्न
X

  • गुरू हरगोविन्द सिंह साहब को किया याद,तीन दिन में हुए कई धार्मिक कार्यक्रम

धौलपुर। एएनएन (Action News Network)

धौलपुर के तीर्थराज मचकुंड सरोवर स्थित प्राचीन गुरुद्वारा शेर शिकार दाताबंदी छोड में सालाना जोड मेला शुक्रवार को संपन्न हो गया। तीन दिन तक चलने वाले मेले में कई धार्मिक आयोजन संपन्न हुए। श्रद्धालुओं ने गुरू हरगोविन्द सिंह जी महाराज का स्मरण किया।

प्राचीन गुरुद्वारा शेर शिकार दताबंदी छोड में प्रसिद्ध सालाना जोड मेला बुधवार को परंपरागत तरीके से शुरू हुआ था। मेले के दौरान अरदास तथा अखंड पाठ का आयोजन हुआ। आयोजन के बाद में श्रद्धालुओं ने अटूट लंगर में प्रसाद ग्रहण किया। इससे पूर्व सालाना जोड मेले में देश के विभिन्न गुद्धवारों से आई संगत तथा पंजाब के जालंधर से नरेन्द्र सिंह नगीना की अगुवाई में रागी जत्थों ने कार्यक्रम प्रस्तुत किए।

गुरुद्वारा शेर शिकार दाताबंदी छोड के प्रमुख संत ठाकुर सिंह घोडेवालों ने बताया कि चार मार्च 1612 को गुरु हरगोविन्द सिंह महाराज धौलपुर आए थे। ग्वालियर जाते समय गुरूजी मचकुंड सरोवर में रुके। लोगों के कहने पर उन्होंने 5 मार्च को यहां पर एक शेर का शिकार करके उसके आतंक से मुक्ति दिलाई थी। बाद में 6 मार्च को गुरुजी ग्वालियर पहुंचे तथा वहां मुगलों द्वारा किले में बंदी बनाए गए हिन्दु राजाओं को मुक्त कराया। उन्हीं की याद में गुरु द्वारा शेर शिकार दताबंदी छोड स्थापित है तथा यह सालाना जोड मेला आयोजित किया जाता है।

उन्होंने बताया कि तीन दिन तक चले आयोजन में अरदास, अखंड पाठ, शबद कीर्तन तथा लंगर के कार्यक्रम हुए। सलाना जोड मेले में आगरा के गुरुद्वारा गुरू का ताल के प्रमुख संत बाबा प्रीतम सिंह,दलवीर सिंह मान,नरेन्द्र सिंह बेंस उर्फ नंदू,अर्जुन सिंह तथा संतोख सिंह सहित धौलपुर के अलावा जयपुर, आगरा, ग्वालियर, भरतपुर, दिल्ली, चंडीगढ समेत अन्य इलाकों से श्रद्धालुओं ने शिरकत की।

Next Story
Share it