Action India
शिक्षा

अगले सत्र से शुरू होंगे 4 साल के इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स, जानें क्या है खासियत

अगले सत्र से शुरू होंगे 4 साल के इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स, जानें क्या है खासियत
X

एक्शन इंडिया न्यूज़


इंटरमीडिएट के बाद शिक्षक बनने के सपने देखने वाले युवाओं के लिए महत्वपूर्ण खबर है. अगले साल से बीएड के दो नए प्रोग्राम शुरू किए जाएंगे. इसकी जानकारी केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने दी है. मंत्रालय के नोटिस के अनुसार अगले सत्र से बीए-बीएड और बीएससी-बीएड कोर्स शुरू होंगे. यह इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम यानी आईटीईपी चार साल का होगा. इंटरमीडिएट के बाद सीधे बीएड किया जा सकेगा. हालांकि अभी यह कोर्स 50 मल्टीडिसिप्लिनरी इंस्टीट्यूशनंस में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू होगा.


नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (NCTE) ने बीएससी-बीएड और बीए-बीएड का का पाठ्यक्रम भी तैयार कर लिया है. इस नए कोर्स के जरिए छात्र शिक्षण के साथ-साथ इतिहास, गणित, विज्ञान, कला, अर्थशास्त्र या कॉमर्स जैसे स्पेशलाइज्ड डिसिप्लिन की पढ़ाई भी कर सकेंगे.


इंटीग्रेटेड प्रोग्राम बीएससी-बीएड और बीए-बीएड में एडमिशन की बात करें तो इसमें कोई बदलाव नहीं होगा. इन नए कोर्स में भी एडमिशन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा आयोजित नेशनल कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (NCET) के माध्यम से होगा. नई शिक्षा नीति में टीचर एजुकेशन के लिए इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम महत्वपूर्ण बिंदु है. नई शिक्षा नीति के अनुसार, 2030 से इसी प्रोग्राम के जरिए शिक्षक भर्ती करने का लक्ष्य है.


  • इंटीग्रेटेड टीचर ट्रेनिंग प्रोग्राम के लाभ

इंटीग्रेटेड टीचर ट्रेनिंग प्रोग्राम में बीएड का कोर्स चार साल का होने के बाद बीएड कोर्स एक साल कम समय में पूरा हो जाएगा. 12वीं पास के बाद सीधे बीएड किया जा सकेगा. वरना, अभी तीन साल ग्रेजुएशन और दो साल का बीएड यानी कुल पांच साल लगते हैं. इसके साथ 12वीं के बाद दो बड़ी डिग्री मिल जाएगी. ग्रेजुएशन और बीएड एक साथ हो जाएगी.

Next Story
Share it