Action India
शिक्षा

विद्यार्थियों को व्हाट्सएप परीक्षा ग्रुप से हटाने की कार्रवाई गलत : पासवा

विद्यार्थियों को व्हाट्सएप परीक्षा ग्रुप से हटाने की कार्रवाई गलत : पासवा
X

रांची। एक्शन इंडिया न्यूज़


प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन (पासवा) के प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे ने फीस नहीं देने पर रांची स्थित संत फ्रांसिस स्कूल की ओर से 250 विद्यार्थियों को व्हाट्सएप परीक्षा ग्रुप से हटाये जाने की कार्रवाई को गलत बताया है।

दूबे ने रविवार को कहा कि कोरोना संक्रमण काल में परिवार की आर्थिक स्थितियां खराब हो जाने की सजा छोटे-छोटे बच्चों को नहीं दी जा सकती है। परीक्षा से वंचित करने जैसी कार्रवाई से उन बच्चों के मनःस्थिति पर क्या प्रभाव पड़ेगा, इसका सहज अनुमान लगाया जा सकता है। बच्चे देश के भविष्य है और जिस गलती के लिए वे किसी भी तरह से जिम्मेवार नहीं है, उस बात की इस तरह की दंडात्मक कार्रवाई से उनका भविष्य धूमिल हो जाएगा। इसलिए यह मामला संज्ञान में आते ही उन्होंने तत्काल फ्रांसिस स्कूल के प्राचार्य और प्रबंधन से भी बात की है। साथ ही निर्देश दिया है कि किसी भी स्थिति में बच्चों को परीक्षा से वंचित नहीं करना है।

आलोक दूबे ने सभी प्राइवेट स्कूलों को स्पष्ट निर्देश दिया है एवं अनुरोध भी किया है कि किसी भी परिस्थिति में बच्चों को परीक्षा से वंचित नहीं करना है। स्कूल प्रबंधन तत्काल व्हाट्सऐप परीक्षा ग्रुप से हटाये गये बच्चों को फिर से जोड़ने का काम करें। वहीं, अभिभावक भी जल्द से जल्द शुल्क जमा कराने का इंतजाम करें और फिलहाल वे स्कूल प्रबंधन को यह लिखित रूप देकर यह भरोसा दिलाने का काम करें कि जल्द ही उनकी ओर से सारे बकाया का भुगतान कर दिया जाएगा।

Next Story
Share it