Top
Action India

आजादी के बाद पहली बार ईदगाह में नहीं हो सकी ईद की नमाज

आजादी के बाद पहली बार ईदगाह में नहीं हो सकी ईद की नमाज
X

  • दो गज की दूरी बनाते हुये मुस्लिम समुदाय ने अपने घरों में ही पढ़ी ईद की नमाज

  • बड़ी ईदगाह और मस्जिदों के नहीं खुले गेट, पुलिस के पहरे में रही प्रमुख मस्जिदें

हमीरपुर । एएनएन (Action News Network)

कोरोना वायरस महामारी को लेकर पहली मर्तबा यहां हमीरपुर जनपद में ईद के त्यौहार पर ईदगाह और मस्जिदों के गेट नहीं खुले। लाक डाउन के बीच पेश इमामों ने भी अपने ही घरों में ईद की नमाज अदा की। वहीं मुस्लिम भाईयों और बहनों ने भी घरों में दो गज की दूरी बनाते हुये ईद की नमाज अदा की। सरकार के सामाजिक दूरी का पालन करने की अपील पर भी लोगों ने एक दूसरे को दूर से ही ईद की मुबारकबाद दी। ईदगाह और मस्जिदों के बाहर पुलिस का पहरा लगा रहा।
बता दें कि ईद के त्यौहार को लेकर हर साल हमीरपुर-कालपी मार्ग पर बड़ी ईदगाह पर हजारों की संख्या में मुस्लिम भाई एकत्र होकर ईद की नमाज अदा करते थे। ईदगाह के बाहर प्रमुख मार्ग पर आवागमन बंद कराकर भी सड़क में भी बड़ी संख्या में लोग ईद की नमाज अदा करते थे। प्रशासन के आला अधिकारी भी ईद की बधाई देने ईदगाह जाते रहे है लेकिन इस बार कोरोना वायरस महामारी को लेकर ईदगाह पर सन्नाटा पसरा रहा।

ईदगाह के गेट भी लाक डाउन के कारण नहीं खुले। हालांकि प्रशासन ने पांच लोगों को ईदगाह पर नमाज अदा करने की व्यवस्था की थी, लेकिन आज कोई भी नमाज अदा करने ईदगाह नहीं पहुंचा। और तो और पेश इमाम हाफिज अब्दुल रशीद कुरैशी ने भी अपने घर में ही ईद की नमाज अदा की। हमीरपुर शहर के अन्य मस्जिदें भी ईद के मौके पर सूनी रही। जिलाधिकारी ने ईद त्यौहार को लेकर नोडल अधिकारी नामित किये थे। जिला आबकारी अधिकारी, सीओ, कोतवाल समेत अन्य पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने ईदगाह समेत अन्य मस्जिदों के बाहर निरीक्षण किया।
ईदगाह के बाहर सुबह से ही पुलिस बल पहरा पर बैठा रहा वहीं कालपी चौराहे के पास मस्जिद के बाहर भी पुलिस बल तैनात रहा। अमन शहीद तथा खालेपुरा की मस्जिद भी पुलिस के पहरे में रही। यहां के समाजसेवी जलीस खान, अनवर खान, अकबर अली सहित अन्य लोगों ने बताया कि अबकी बार कोरोना वायरस के कारण ईद का त्यौहार फीका रहा। सभी ने अपने-अपने घरों में ईद की नमाज अदा कर एक दूसरे को बिना गले मिले ईद की मुबारकबाद दी है।

ईद की नमाज के दौरान सामाजिक दूरी का उत्साह के साथ पालन किया गया है। जनपद के सुमेरपुर, मौदहा, कुरारा, राठ, सरीला, जलालपुर और मुस्करा के अलावा अन्य इलाकों में भी ईद की नमाज मुस्लिम भाईयों ने अपने ही घरों में अदा की है। जनपद के ग्रामीण इलाकों में भी ईद की नमाज घरों में की गयी है। लाँक डाउन के कारण तमाम मस्जिदें सन्नाटे में रही। सुमेरपुर थाना क्षेत्र में कोरोना वायरस प्रभावित सिमनौड़ी गांव में भी ईद की नमाज घरों में की गयी।

कोरोना वायरस के महफूज रखने को मांगी दुआयें

मुस्लिम भाईयों ने घरों में ईद की नमाज अदा कर कोरोना वायरस जैसी महामारी से महफूज रखने के लिये दुआयें मांगी है। जिला स्काउट मास्टर अकबर अली व समाजसेवी जलीस खान ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी से पूरा विश्व जूझ रहा है। इसलिये अबकी बार ईद की नमाज घरों में पढ़ते हुये अल्लाह से इस बीमारी से महफूज रखने के लिये दुआयें मांगी गयी है। उन्होंने कहा कि देश की खुशहाली और संकट की घड़ी से निजात दिलाने के लिये भी दुआयें मांगी गयी है।

Next Story
Share it