Action India
अन्य राज्य

निम्बाहेड़ा के आठ वर्षीय बालक ने बनाया नया योग रिकार्ड

निम्बाहेड़ा के आठ वर्षीय बालक ने बनाया नया योग रिकार्ड
X

चित्तौड़गढ़ । एएनएन (Action News Network)

जिले में निम्बाहेड़ा निवासी 8 वर्षीय बालक अर्हम जेतावत ने योग के क्षेत्र में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। एक मिनट में 25 बार निर्मलम्बा पूर्ण चक्रासन योग कर चैंपियंस बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है, जो पुराने कीर्तिमान से 4 अधिक है। प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने प्रमाण पत्र बालक को सौंपा। यहां सभी ने ताली बजा बालक की हौंसला अफजाई की।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के एक दिन पूर्व शनिवार को कीर्तिमान बनाने का प्रमाण पत्र सौंप इसका हौंसला बढ़ाया। निम्बाहेड़ा निवासी व्यवसायी विमल जेेतावत के पुत्र अर्हम जो चार वर्षों से योग गुरू बाबा रामदेव से प्रेरित हो योग कर रहे हैं ने गत एक जून को एक मिनिट में निर्मलम्बा पूर्ण चक्रासन योगासन को 25 बार करके विश्व रिकार्ड बना दिया।

इसे चैम्पियंस बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड नामक संस्था ने अपने रिकार्ड पर ले लिया और इसे एक नया कीर्तिमान मानते हुए इसका प्रमाण पत्र चित्तौड़गढ़ के जिला कलक्टर चेतन देवड़ा को भेजा। इन्होंने अपने हाथों से कार्यालय परिसर में उक्त बालक को यह प्रमाण पत्र सौंपा।

इस अवसर पर अर्हम ने कहा कि वह यह रिकार्ड बना कर बेहद प्रसन्न है और उनका लक्ष्य है कि वे अपने गुरू बाबा रामदेव का अनुकरण कर योग को सम्पूर्ण विश्व में फैलाएं। इस आसन को विश्व कीर्तिमान मानने वाली संस्था का दावा है कि इससे पूर्व इस आसन को चैन्नई की तेरह वर्षीय रिया पालड़िया नामक बालिका ने एक मिनिट में में बीस बार करके रिकार्ड बनाया था। अर्हम बाबा रामदेव के साथ मंच पर भी योग कर चुके है।

अर्हम ने मात्र साढ़े चार साल की उम्र में योग की शुरुवात। इसके गुरु विक्रम आंजना निम्बाहेड़ा में ही पार्क में ही योग सिखाते थे, जहां माता-पिता केे साथ यह भी जाने लगा। अब स्थिति यह है कि योग में यह बालक प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित हो चुका है। इतना ही नहीं योग गुरु बाबा रामदेव के साथ भी योग कर चुका है।

शनिवार को बालक के योग की पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव ने प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हाथ लगा कर देखा कि इसके शरीर में हड्डियां है भी या नहीं। उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर यह स्पष्ट हो गया है कि योग कर हम स्वस्थ्य रह सकते हैं। शारीरिक क्षमता को इससे बढ़ाया जा सकता है।

Next Story
Share it