Top
Action India

जन्मदिन विशेष 22 जून: दमदार अभिनय की बदौलत आज भी जिंदा है अमरीश पुरी

जन्मदिन विशेष 22 जून: दमदार अभिनय की बदौलत आज भी जिंदा है अमरीश पुरी
X

एक्शन इंडिया न्यूज़

मशहूर फिल्म अभिनेता अमरीश पुरी आज बेशक हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके शानदार अभिनय का जिक्र आज भी उनके चाहनेवालों के बीच होता हैं। 22 जून, 1932 को पंजाब में जन्मे अमरीश पुरी को बॉलीवुड में मशहूर खलनायक के तौर पर भी याद किया जाता है। अमरीश पुरी ने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत साल 1971 में 'प्रेम पुजारी' से की थी।वैसे तो अमरीश पुरी ने फिल्मों में हर तरह के किरदार को बखूबी निभाया ,लेकिन 1980 के दशक में उन्होंने बतौर खलनायक कई बड़ी फिल्मों में अपनी छाप छोड़ी। 1987 में फिल्म 'मिस्टर इंडिया में मोगैंबो की भूमिका के जरिए वे सभी के जेहन में छा गए। 1990 के दशक में उन्होंने फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे, घायल और विरासत में अपनी सकारात्मक भूमिका के जरिए सभी का दिल जीता। अमरीश पुरी ने लगभग 400 फिल्मों में काम किया था। अमरीश पुरी के जन्मदिन पर आइये जानते हैं उनकी कुछ यादगार भूमिकाओं के बारे में।

बाबा भैरोनाथ :साल 1986 में श्रीदेवी और ऋषि कपूर की फिल्म 'नगीना' में अमरीश पुरी ने एक तांत्रिक का किरदार निभाया था। फिल्म में उनके किरदार का नाम बाबा भैरोनाथ था। इस फिल्म में उनके किरदार और अभिनय को दर्शकों ने काफी पसंद किया।

मोगैंबो : साल 1987 में आई फिल्म 'मिस्टर इंडिया' में मोगैंबो के किरदार को कौन भूल सकता है। अनिल कपूर और श्रीदेवी अभिनीत इस फिल्म में अमरीश पुरी मोगैंबो के किरदार में नजर आये थे। इस फिल्म में उनका मशहूर डायलॉग' मोगैंबो खुश हुआ' आज भी हर किसी के जुबान पर अक्सर सुनने को मिल जाता है। इस फिल्म में उनके गेटअप और किरदार को दर्शकों ने बेहद पसंद किया।

जनरल डॉन्ग: साल 1992 में आई मल्टी स्टारर फिल्म 'तहलका' में अमरीश पुरी ने अपने अभिनय से सबकी खूब वाहवाही लूटी। इस फिल्म में वह जनरल डॉन्ग की भूमिका में थे। धर्मेंद्र, नसरुद्दीन शाह, मुकेश खन्ना, आदित्य पंचोली, इच्छा स्वरूप, पल्ल्वी जोशी आदि के अभिनय से सजी इस फिल्म में अमरीश पुरी विलेन की भूमिका में आइलैंड डॉन्गरीला में अपना अलग साम्राज्य बसाते नजर आये थे। इस फिल्म में अमरीश पुरी का एक डायलॉग डॉन्ग कभी रॉन्ग नहीं होता काफी फेमस है।

चौधरी बलदेव सिंह: ऐसा नहीं है कि अमरीश ने अपनी छाप सिर्फ विलेन के चरित्र में ही छोड़ी है। फिल्म 'दिल वाले दुल्हनिया ले जायेंगे' में पिता चौधरी बल्देव सिंह के किरदार निभाकर उन्हें दर्शकों के दिलों में अपनी अलग पहचान बनाई। फिल्म में वो जहां 'ऐ मेरी जोहरा जबी' गा कर अपनी बीबी से रोमांस करते नजर आये, वहीं एक कड़क पिता अपनी बेटी सिमरन को उसकी जिंदगी जीने की आजादी भी देता है। फिल्म में उनका डायलॉग 'जा सिमरन जा, जी ले अपनी जिंदगी' आज भी फेमस है।

राजा साहब: राकेश रोशन के निर्देशन में बनी फिल्म 'कोयला' में अमरीश पुरी ने नेगेटिव रोल निभाया था। इस फिल्म में राजा साहब के किरदार में अमरीश पुरी को काफी पसंद किया। इस फिल्म में अमरीश पुरी ने अपने लुक और एक्टिंग से खूब सुर्खियां बंटोरी थी।

इसके अलावा अमरीश पुरी ने करण अर्जुन, घायल, फूल और कांटे, विश्वात्मा, दामिनी, परदेश, गदर-एक प्रेम कथा, ऐतराज, मुझसे शादी करोगी आदि कई फिल्मों में अपने अभिनय की छाप छोड़ी है, जो आज भी दर्शकों के दिलों में जीवित है। 22 जनवरी, 2005 को अमरीश पुरी का निधन हो गया था। आज भी फिल्म जगत में जब भी विलेन का रोल निभाने वाले अभिनेताओं का जिक्र होता है, तो उसमें अमरीश पुरी का नाम सबसे ऊपर आता हैं।


Next Story
Share it