Action India
अन्य राज्य

अलीगढ़ में हरियाणा के पूर्व मंत्री करण दलाल सहित दर्जनों लोगों पर एफआईआर दर्ज

अलीगढ़ में हरियाणा के पूर्व मंत्री करण दलाल सहित दर्जनों लोगों पर एफआईआर दर्ज
X

अलीगढ़ । एएनएन (Action News Network)

अलीगढ़ के थाना टप्पल में यमुना पट्टी के ग्रामीणों पर शुक्रवार को खादर की जमीन पर कब्जे को लेकर हुए हमले के मामले में पुलिस ने हरियाणा के पूर्व मंत्री पलवल सहित किसानों पर एफआईआर दर्ज कर ली है। वही, फिर से हरियाणा किसानों के हमलावर होने की आशंका के चलते बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

एसपी देहात अतुल शर्मा ने बताया कि गांव गिरधर पुर के माजरा मालव निवासी किसान भरत की तहरीर पर पूर्व मंत्री करन दलाल निवासी किठवाड़ी, पलवल (हरियाणा), रिषी चौधरी, छीतर, पप्पू, सुखवीर, जवाहर निवासी मालव, उदल, राजकुमार,ए कन्हैया, बल्देव, वासी, चंद्रभान, देवो, सतवीर, उदयसिंह व 250-300 अज्ञात लोगों के खिलाफ जानलेवा हमले सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि मौके पर भरत सिंह आदि लोगों की 500 बीघा संक्रमणीय भूमि है। इस पर शुक्रवार को नामजदों व आरोपियों ने 10-12 ट्रैक्टर व कई जेसीबी, हथियार आदि लेकर ने हमला बोला दिया। साथ ही जमीन पर कब्जा करते हुए सब्जी की फसल जोत दी। विरोध करने पर आरोपियों ने फायरिंग कर मारपीट कर दी। बाद पुलिस प्रशासन ने मौके पहुंच कर बचाया।

एसपी देहात ने बताया कि सीमा के अलावा दोनों गांवों में अतिरिक्त फोर्स तैनात कर दिया गया है। बता दें कि करन दलाल हरियाणा में कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे हैं। इधर, उत्तर प्रदेश-हरियाणा सीमा विवाद को लेकर शुक्रवार को हुई घटना के बारे में डीएम ने शासन को पूरी रिपोर्ट भेजी है। इसके साथ ही उन्होंने शासन से अनुरोध किया है कि वह हरियाणा शासन से वार्ता करें और सीमा विवाद सुलझने तक किसी भी प्रकार से जमीन पर कब्जे की कोशिश न की जाए।

जिलाधिकारी चन्द्र भूषण सिंह ने बताया कि पूरे मामले से पलवल डीएम को भी अवगत कराया गया है। उन्होंने कहा कि उन्हें जमीन के विवादित होने की जानकारी नहीं थी। ज्ञात हो कि गांव रामगढ़ी में सौ बीघा जमीन पर कब्जा करने के लिए हरियाणा के पूर्व मंत्री सहित एक बस हरियाणा पुलिस के जवान, मंत्री के साथ के लोग लाव लश्कर, जेसीबी, असलाहों के साथ पहुंचे थे। उन्होंने खैर के कुछ किसानों पर फायरिंग भी कर दी। इसके बाद खैर के किसानों की तरफ से भी फायरिंग की गई है। मामले की जानकारी होते ही सीओ खैर और एसडीएम खैर प्रशासनिक-पुलिस अमले के साथ पहुंच गई थीं।

Next Story
Share it