Top
Action India

गोण्डा की बेटी ने 'योग' में गोल्ड मेडल हासिल कर छात्र-छात्राओं को बना रहीं निरोग

गोण्डा की बेटी ने योग में गोल्ड मेडल हासिल कर छात्र-छात्राओं को बना रहीं निरोग
X

गोण्डा । एएनएन (Action News Network)

एक परिषदीय विद्यालय की दो नन्हीं सी छात्राओं ने 'इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड' में अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज कराने के बाद योग में गोल्ड मेडल हासिल कर अब गांव के लोगों व विद्यालय के छात्र-छात्राओं को योग सिखाकर निरोग बना रही हैं।

इन दोनों नन्हीं छात्राओं के योगासन को देखकर आप दंग रह जाएंगे। कक्षा पांच की छात्रा सुप्रिया वर्मा योग में 4 मिनट 5 सेकंड तक लगातार मयूरासन करती है। वहीं 10 वर्ष की काजल कुक्कुटासन में महारत हासिल कर सर्वाधिक समय 14 मिनट 12 सेकंड करती है।

बता दें कि जनपद के विकासखंड इटियाथोक के गांव जगदतपुरवा के मजरा ज्ञानापुर की निवासिनी सुप्रिया वर्मा के पिता शिवकुमार वर्मा पेशे से ट्रक चालक हैं। उन्होंने बताया कि शुरुआती दौर से ही सुप्रिया काफी होनहार थी।

एक बार जिस चीज को वह समझ लेती है, कभी भूलती नहीं है। वह अपनी बिटिया को अध्यापक बनाना चाहते हैं। इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड मयूरासन में महारत हासिल करने का श्रेय वह विद्यालय के प्रधानाध्यापक मनोज मिश्र को देते हैं, जबकि काजल इसी गांव के किसान नानबच्चा की पुत्री है।

इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड व योग में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए पिता काफी उत्साहित हैं यह दोनों नन्हीं छात्राएं प्राथमिक विद्यालय भीखमपुर में कक्षा पांच की छात्रा है। इन्होंने उम्र को भी मात देते हुए योग के कठिन आसन मयूरासन व कुक्कुटासन पर महज 10 वर्ष की उम्र में महारत हासिल कर लिया।

देश की राजधानी दिल्ली में आयोजित ओपन नेशनल गेम्स 2020 वन नेशन वन फ्लैग वन साउल के तत्वाधान में आयोजित प्रतियोगिता में सर्वाधिक समय 4 मिनट 5 सेकंड तक अत्यंत कठिन मयूरासन कर गोल्ड मेडल हासिल किया है। इस प्रतियोगिता में देश के विभिन्न राज्यों से सैकड़ों प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया था, लेकिन गोंडा की सुप्रिया वर्मा ने सबको पीछे छोड़ गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

इससे पहले छात्रा को 4 मिनट 5 सेकंड तक मयूरासन करने के कारण इसका नाम 'इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड' में दर्ज हो चुका है। इन सबके अतिरिक्त सुप्रिया 100 तक के पहाड़े एक आवाज में फराटेदार सुनाती है।

इस संबंध में भीकमपुर प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक मनोज मिश्र ने बताया कि इस विद्यालय की तीन बच्चियों सुप्रिया, काजल और बबली का नाम 'इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड्स' में दर्ज हो चुका है।

इसके लिए आवेदन किया गया था। फलस्वरुप इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड्स की टीम ने भेजे गए सभी दावों का परीक्षण करते हुए और बच्चियों की प्रतिभा को सराहते हुए नाम दर्ज करने की सूचना मेल द्वारा प्रेषित की है।

प्रधानाध्यापक ने बताया कि इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड्स की टीम इसी दिसंबर माह के दूसरे सप्ताह में गोंडा आकर उक्त के संबंध में विद्यालय की तीनों बच्चियों को प्रमाण पत्र और मेडल देकर सम्मानित करेगी।

Next Story
Share it