Top
Action India

अयोध्या के लिए रवाना हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बेगूसराय निवासी हनुमान श्रवण

अयोध्या के लिए रवाना हुए  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बेगूसराय निवासी हनुमान श्रवण
X

बेगूसराय । Action India News

अध्यात्म और देव भूमि के नाम से चर्चित भारत में सदियों से भक्त और भगवान का जुड़ाव चर्चित है। सबके अपने-अपने आराध्य हैं तथा उनको मनाने के अपने-अपने तौर-तरीके हैं। मीरा ने कृष्ण की भक्ति की थी, हनुमान ने राम की जो भक्ति की वह अब भी भक्तों के प्रेरक है।

लेकिन बेगूसराय के एक युवक श्रवण कुमार साह की भक्ति इन सबसे अलग है तथा इस हनुमान के आराध्य हैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी। देश में जहां कहीं भी प्रधानमंत्री की सभा की जानकारी श्रवण को मिलती है, वह खुद को हनुमान बना वहां पहुंच जाते हैं। पांच अगस्त को जब अयोध्या में प्रधानमंत्री श्री राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करने आ रहे हैं तो इसमें भी यह हनुमान शामिल होगा।

मंगलवार की सुबह हनुमान का वेश, हाथ में नमो-नमो लिखा गदा, सिर पर कमल की आकृति वाला स्वच्छता संदेश लिखा मुकुट तथा पेट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फोटो लगाए श्रवण अयोध्या केे लिए रवाना हो गए हैं। यहां से ठाकुरबाड़ी और शिवालय की मिट्टी लेकर गए हैं ताकि यह मिट्टी भी भूमि पूजन में लगे।

इस मौके पर गांव के सैकड़ों लोगों ने इस हनुमान रूपी भक्त को श्रीराम की जन्म भूमि अयोध्या के लिए जय श्री राम का जयकारा लगाकर विदा किया। खुद को राम रूपी नमो का हनुमान कहने वाले श्रवण ने बताया कि 2015 से अपने आराध्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की 77 सभाओं में शामिल चुके हैं। उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, कर्नाटक, झारखंड, उत्तराखंड, असम, त्रिपुरा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, ओडिशा तथा दिल्ली की सभा में हनुमान बनकर शामिल हुए हैं तथा एक सौ सभाओं में शामिल होने का प्रण कर रखा है।

श्रवण कहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उनके लिए आदर्श हैं, ऐसा अद्वितीय, यशस्वी, तेजस्वी, विराट प्रधानमंत्री ना आज तक हुआ और ना ही भविष्य में होगा। मोदी एकमात्र ऐसे प्रधानमंत्री हैं जो जन जन के कण-कण में व्याप्त हैं, देश का उत्थान कर भारत को विश्वगुरु बना रहे हैं।

सबसे बड़ी बात है कि जीविकोपार्जन के लिए बेगूसराय न्यायालय में मुंशीगीरी करने वाले श्रवण ने किसी भी सभा में जाने के लिए लोगों से चंदा नहीं लिया है। वे अपनी कमाई का आधा पैस घर चलाने और आधा पैसा अपने आदर्श के दीदार में खर्च कर रहे हैं।

Next Story
Share it