Action India
हरियाणा

ट्यूबवेल से पानी को रिचार्ज करने की योजना पर होगा मंथन

ट्यूबवेल से पानी को रिचार्ज करने की योजना पर होगा मंथन
X

चंडीगढ़। एक्शन इंडिया न्यूज़


हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं वित्त आयुक्त पीके दास ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को ट्यूबवेल से पानी रिचार्ज कर भू-जल स्तर में वृद्धि पर विस्तृत अध्ययन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अध्ययन से पहले और बाद की स्थिति का पता लगाया जाए। जिन क्षेत्रों में यह अध्ययन हो जाए, उन्हें अन्य से अलग कर दिया जाए।

उन्होंने यह निर्देश मंगलवार को वर्चुअल माध्यम से बाढ़ और सूखे पर हरियाणा राज्य तकनीकी सलाहकार समिति की 51वीं बैठक के दौरान दिए। बैठक में आबादी क्षेत्र की सुरक्षा, कृषि भूमि की सुरक्षा, पानी निकासी प्रबंधन, जल संरक्षण एवं इसके पुन: उपयोग जैसे अनेक मुद्दों पर किये जा रहे प्रयासों पर विस्तृत प्रस्तुतिकरण दिया गया। बैठक में सिंचाई विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के प्रधान सचिव एके सिंह, विशेष सचिव वित्त पंकज व सभी जिला उपायुक्त शामिल हुए।

उन्होंने अधिकारियों को सुझाव दिया कि सूक्ष्म-स्तरीय मानचित्र तैयार किया जाए, जिसमें उन क्षेत्रों को प्रदर्शित किया जाए जहां से पानी निकाला जा चुका है या पाइप से पानी निकाला जा रहा है। इन कार्यों को इसमें प्रदर्शित किया जाए। उन्होंने संबंधित विभाग के अधिकारियों को यह भी सुनिश्चित करने की सलाह दी कि जिन क्षेत्रों में जरूरत हो उनमें पानी पंप करने की स्थायी सुविधा उपलब्ध होनी चाहिए।

दास ने गांवों में भू-जल स्तर पर डाटा तैयार करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जहां भी संभव हो, पानी निकासी के लिए सौर पंपों का उपयोग किया जाए। उन्होंने खरीफ व रबी फसलों के मुआवजे और फसल क्षति के संबंध में भी डाटा तैयार करने का सुझाव दिया, ताकि मुआवजे की राशि का अंदाजा लगाया जा सके।

एसीएस देवेंद्र सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर बाढ़ नियंत्रण बोर्ड के एजेंडे में नदी संरक्षण कार्य को भी शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री के निर्देश हैं कि जलभराव वाले पानी को ड्रेन में डालने की बजाय, इसे सिंचाई के कार्य में उपयोग लाया जाए या फिर इसका भूमि में रिचार्ज सुनिश्चित किया जाए।

Next Story
Share it