Select Page

एचईआरसी ने सुनीं उपभोक्ताओं की दलीलें

एचईआरसी ने सुनीं उपभोक्ताओं की दलीलें

गुरुग्राम/टीम एक्शन इंडिया
हरियाणा विद्युत विनियामक आयोग (एचईआरसी) के अध्यक्ष आरके पचनंदा और सदस्य नरेश सरदाना ने स्थानीय पावर ग्रिड स्थित एमपी हॉल में आगामी वित्त वर्ष 2023-24 के लिए नई बिजली दरें तय करने से पहले शुक्रवार को बिजली उपभोक्ताओं की दलीलें सुनी। इस जन सुनवाई में दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीएन) के प्रबंध निदेशक अमित खत्री, निदेशक नीरज आहूजा, चीफ इंजीनियर नवीन वर्मा, अनिल शर्मा, अतुल पसरीजा, सीएफओ सुशीला कुमारी और डीएचबीवीएन के अधिकारियों की उपस्थिति में गुरुग्राम, मानेसर और फरीदाबाद के उद्योग संगठनों व व्यवसायिक श्रेणी के बिजली उपभोक्ताओं ने अपनी सुझाव और दलीलें दीं। इन सभी दलीलों को एचईआरसी के अधिकारियों ने नोट किया।

इन सभी श्रेणी के बिजली उपभोक्ताओं के सुझाव सुनने के उपरांत एचईआरसी के अध्यक्ष आरके पचनंदा ने उपस्थित विद्युत उपभोक्ताओं को आश्वस्त किया कि उपलब्ध संसाधनों को ध्यान में रखते हुए बिजली उपभोक्ताओं के हित और संतुष्टि उनके लिए सर्वो च्च प्राथमिकता है, इसके लिए वह पहले ही उपभोक्ताओं की शिकायतों के निवारण के लिए सकज्ल स्तर पर उपभोक्ता शिकायत निवारण मंच (सीजीआरएफ) का गठन कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि बिजली वितरण निगमों द्वारा आगामी वित्त वर्ष के लिए वार्षिक राजस्व आवश्यकता (एआरआर) के लिए जो पेटिशन दायर की हुई थी, उन पर बिजली उपभोक्ताओं के सुझाव लिए बिना एआरआर का आर्डर अधूरा है। इसलिए आयोग बिजली उपभोक्ताओं से इस संबंध में सुझाव लेने के लिए गुरुग्राम आया है।

चेयरमैन पचनंदा ने बिजली उपभोक्ताओं से कहा कि इस एआरआर पर यदि किसी उपभोक्ता ने कोई अन्य महत्वपूर्ण सुझाव देना है तो वह आगामी तीन दिनों में आयोग को लिखित में सुझाव दे सकता है। इस दौरान एचईआरसी के निदेशक (टैरिफ) संजय वर्मा, निदेशक (तकनीकी) विरेन्द्र सिंह, संयुक्त निदेशक (वित्त) मनीष सिंघल, कंसलटेंट संजय बंसल, उप निदेशक (मीडिया) प्रदीप मलिक मौजूद रहे।

डीएचबीवीएन के जनसंपर्क अधिकारी संजय चुघ, एसई आरके जाजोरिया, एसई गुरुग्राम एमएल रोहिल्ला, पीके चौहान सहित सभी सम्बन्धित अधिकारी तथा कर्मचारी मौजूद रहे।

Advertisement

Advertisement