Top
Action India

हिमाचल में तीन नए नगर निगम बनाने के फैसले का भाजपा ने किया स्वागत

शिमला। एक्शन इंडिया news

हिमाचल प्रदेश के मण्डी, सोलन व पालमपुर की नगरपरिषद को नगर निगम बनाने के राज्य सरकार के फैसले का भाजपा ने स्वागत किया है। पार्टी का कहना है कि नगर निगम बनने से इन शहरों के लोगों का सर्वांगीण विकास होगा।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने बुधवार को शिमला में आयोजित प्रेस वार्ता में कहा कि हिमाचल प्रदेश के इतिहास में पहली बार हुआ है कि एक साथ तीन शहरों को नगर निगम बनाने का निर्णय लिया गया है। नगर निगम बनाने से जहां इन शहरों में रहने वाले लोगों को बेहतर सुविधाएं मिलेंगी, वहीं नगरों का सुनियोजित विकास सुनिश्चित किया जा सकेगा। कश्यप ने कहा कि मण्डी, सोलन तथा पालमपुर के नगर निगम बनने से ये शहर, शहरी विकास के लिए विभिन्न केन्द्रीय योजनाओं के लिए भी पात्र होंगे, जिससे इन क्षेत्रों के विकास के लिए अधिक धनराशि उपलब्ध होगी तथा लोगों को रोजगार के भी अधिक अवसर मिलेंगे।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इन तीन नगर निगमों में शामिल क्षेत्रों में भूमि और भवनों को तीन साल की अवधि के लिए टैक्स में छूट देने का भी निर्णय लिया गया है। इससे इन क्षेत्रों के हजारों लोग लाभान्वित होंगे। कश्यप ने कहा कि सरकार ने जहां ग्रामीण क्षेत्रों के निर्धन लोगों के लिए मनरेगा जैसी रोजगारन्मुखी योजनाएं शुरू की हैं, वहीं शहरी क्षेत्रों के बेरोजगार व गरीब लोगों के लिए भी इसी तर्ज पर शहरी रोजगार गारंटी योजना शुरू की गई है। इससे ऐसे लोगों को विशेष लाभ होगा जो इन क्षेत्रों में शामिल किए गए हैं।

पत्रकारों के सवालों का उत्तर देते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि नए भाजपा कार्यालय बनने से भाजपा की शक्ति को बल मिलेगा, जिससे कांग्रेस पार्टी घबराई है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हिमाचल प्रदेश को गांजे का प्रदेश बताने के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश देव भूमि एवं वीरभूमि है तथा उद्धव ठाकरे को हिमाचल प्रदेश का इतिहास पढ़ना चाहिए कि यह एक फौजियों का प्रदेश है। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव पार्टी चिन्ह पर नहीं होते हैं, पर भारतीय जनता पार्टी पंचायत चुनावों के लिए तैयार है और ज्यादा से ज्यादा पंचायतों में भाजपा समर्थित प्रत्याशी जीत कर आए, इसका प्रयास भाजपा कर रही है। कश्यप ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में तीसरे फ्रंट का कोई प्रभाव नहीं है और ऐसे प्रयास पहले भी हो चुके हैं, जो फेल हो गए थे।

Next Story
Share it