Top
Action India

कर्फ्यू में छूट का कोई फायदा नही

कर्फ्यू  में छूट का कोई फायदा नही
X

ऊना। एक्शन इंडिया न्यूज़

हिमाचल प्रदेश सरकार ने प्रदेश के बाजारों को पांच घंटे खोलने की राहत तो दे दी है। लेकिन धार्मिक स्थानों पर व्यापारियों, होटल व्यवसायियों को कोई राहत नहीं मिली है, क्योंकि बाहरी राज्यों से लोगों को आने मे रोक लगी हुई है। कोरोना वायरस के चलते प्रदेश के तमाम मंदिर बंद है अब सवाल यह है कि धार्मिक स्थलों पर प्रसाद विके्रता मनियारी विक्रेता, आर्टिफिशियल ज्वेलरी विक्रेता, लकड़ी के सामान बेचने वाले, ढाबा, चाय-मिठाई व्यापारी आखिर दुकाने खोल भी दे तो उन्हें कोई लाभ दिखता नहीं नजर आ रहा।

धार्मिक स्थल चिंतपूर्णी की बात करें तो यहां व्यापारी और होटल व्यवसायी अपने बिजली के बिल पानी के बिल देने में असमर्थ हैं। यहां बहुत से ऐसे छोटे दुकानदार हैं जिन्होंने बैंकों में व्यापार करने के लिए ब्याज पर पैसा लिया है। इसी प्रकार होटल व्यवसायियों ने भी करोड़ों रुपयों का लोन बैंकों से लिया है। लेकिन यह लोग बैंको कि किश्त देने में भी असमर्थ हो चुके हैं। ऐसा ही हाल टैक्सी चालकों का है जिन्होंने बैंकों से गाडिय़ां लोन पर खरीदी हैं।जिनका कारोबार भी पूरी तरह ठप्प पड़ा हुआ है।

चिंतपूर्णी के व्यापारी संजीव रतन, रामपाल, उमेश, महेश, विनोद कुमार, पवन कुमार, निरंजन, दिनेश, ओपी कालिया, दिशु कालिया कई लोगों ने बताया कि चिंतपूर्णी के व्यापारियों का व्यवसाय बुरे दौर से गुजर रहा है। जब तक चिंतपूर्णी में श्रद्धालुओं की आवाजाही नहीं होती तब तक चिंतपूर्णी में दुकानदारों को संकट की घड़ी से गुजरना पड़ेगा।

धार्मिक स्थलों पर कारोबार करने वाले तमाम व्यापारियों की हालत आगे कुआं पीछे खाई जैसी हो गई है। किसी भी तरफ से कोई राहत मिलती नजर नहीं आ रही जिस कारण लोग काफी डिप्रेशन में हैं। कोरोना बीमारी से ज्यादा चिंता अव लोगों को अपनी आमदन की होने लगी है।


Next Story
Share it