Top
Action India

खनन पर डीएम की किरकिरी निर्देश मिलने के बाद नजर आया अवैध खनन

खनन पर डीएम की किरकिरी निर्देश मिलने के बाद नजर आया अवैध खनन
X

बागपत। एएनएन (Action News Network)

बागपत में अवैध रूप से रेत खनन करने की शिकायत के बाद भी जिलाधिकारी द्वारा खनन को लेकर मौन साधने के बाद आखिरकार जब मामला मुख्यमंत्री तक पहुंचा तो जिला अधिकारी बागपत को अवैध तरीके से रेत खनन दिखाई देने लगा।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद खनन निर्देशक लखनऊ ने डीएम को जांच कर कार्रवाई के निर्देश दे दिए है। अब जिलाधिकारी बागपत ने एडीएम बागपत सहित तीनों एसडीएम की टीम बनाकर जांच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं यह कार्रवाई तब की गई है जब बागपत विधायक योगेश धामा ने खुद मुख्यमंत्री से मिलकर जिला अधिकारी शकुंतला गौतम पर अवैध खनन करने वाली को संरक्षण देने का आरोप लगाया और मामले से अवगत कराया।

बागपत में यूं तो खनन के चार पट्टे आवंटित किए गए थे लेकिन जिलाधिकारी शकुंतला गौतम ने एक ही पट्टे को मंजूरी दी हुई थी और इस पट्टे पर भी कुख्यात बदमाश के गुर्गों का कब्जा था जिसके चलते यहां पर आवंटित पट्टे से अलग भूमि पर भी अवैध खनन चल रहा था।

यूपी और हरियाणा की सीमा पर चल रहे खनन से बागपत जनपद के कई गांवों के किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा था, रास्ते ब्लॉक हो गए थे किसानों को आने जाने में भी दिक्कतें हो रही थी किसानों ने इसकी शिकायत की तो एक तरफ माफियाओं ने उनको धमका दिया और दूसरी तरफ प्रशासन ने उनकी मदद नहीं की, जिसके बाद किसानों ने इसकी शिकायत विधायक योगेश धामा तक पहुंची, योगेश धामा ने मामले को गंभीरता से लेते हुए इसकी शिकायत खुद मुख्यमंत्री से मिलकर की और खनन की सच्चाई मुख्यमंत्री के सामने रखी और बताया कि किस तरह शिकायत के बाद भी जिलाधिकारी शकुंतला गौतम अवैध खनन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई तक नहीं कर रही हैं और माफियाओ को संरक्षण दे रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तुरंत खनन निर्देशक को आदेश जारी कर दिए और जिलाधिकारी शकुंतला गौतम बागपत से भी रिपोर्ट तलब करने के लिए कहा गया। खनन निर्देशक लखनऊ से अब डीएम को जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं जिलाधिकारी शकुंतला गौतम ने एडीएम बागपत व तीनों एसडीएम सहित खनन अधिकारी की एक टीम बनाकर जांच कर रिपोर्ट देने के लिए कहा है।

हालांकि पिछले दिनों की गई विधायक द्वारा शिकायत के बाद जिलाधिकारी ने रेत खनन बंद करा दिया था और बडौत कोतवाली में एक ठेकेदार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा कर मामले से बचने का प्रयास किया। लेकिन अब खनन निर्देशक के निर्देश लखनऊ से पहुंचे हैं और रिपोर्ट मांगी गई है। मामले को लेकर जिलाधिकारी बागपत का कहना है कि अवैध खनन करने वालों को चिन्हित कर एफ आई आर दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं।

Next Story
Share it