Top
Action India

दुष्कर्म प्रकरण: अधिकारी को निलंबित करने और मामले की जांच करने का निर्देश

दुष्कर्म प्रकरण: अधिकारी को निलंबित करने और मामले की जांच करने का निर्देश
X

रायपुर । एएनएन (Action News Network)

महिला से दुष्कर्म के आरोप में घिरे आईएएस व जांजगीर-चाम्पा के पूर्व कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक पर निलंबन की गाज गिरी है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल को तत्काल पूर्व कलेक्टर पाठक को निलंबित करने और पूरे प्रकरण की जांच उच्च स्तरीय दल से कराने के निर्देश दिए हैं।

बुधवार रात जांजगीर पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर पूर्व कलेक्टर पाठक के खिलाफ बलात्कार और धमकी देने के आरोप में एफआईआर दर्ज की थी। महिला ने पुलिस अधीक्षक के नाम दिए शिकायत पत्र में बताया है कि वह डभरा क्षेत्र की पूर्व जनपद सदस्य है तथा एनजीओ चलाती हैं। काम दिलाने का झांसा देकर उसके साथ अनाचार किया गया।

महिला 15 मई को कलेक्टोरेट पहुंची थी। इस दौरान चैंबर में ही कलेक्टर ने उसके साथ संबंध स्थापित किये थे और उन्होंने उसे काम दिलाने का भरोसा दिलाया था, लेकिन काम नहीं मिला। पीड़िता ने पुलिस को कलेक्टर और उसके बीच हुई बातचीत की रिकार्डिंग और कुछ तस्वीरें पुलिस को सौंपी है। कलेक्टर का स्थानांतरण होने के बाद उसने एफआईआर कराने की हिम्मत जुटाई है। पूर्व कलेक्टर के खिलाफ धारा 376, 506, 509 (ख) के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। आईएएस जनक प्रसाद पाठक वर्तमान में रायपुर में संचालक भू-अभिलेख के पद पर पदस्थ हैं।

उल्लेखनीय है कि 2002 में जशपुर के तत्कालीन कलेक्टर एमआर सारथी पर आदिवासी हॉस्टल की अधीक्षिका ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। इस मामले में उनके खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज हुआ था। हालांकि, पद में रहते उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई। बाद में उन्हें गिरफ्तार किया गया और जेल में रहते उनकी मौत हो गई थी।

Next Story
Share it