Top
Action India

लंबे अरसे बाद घर में परिवार के सदस्यों के बीच बीत रहा समय, बढ़ी आत्मीयता

लंबे अरसे बाद घर में परिवार के सदस्यों के बीच बीत रहा समय, बढ़ी आत्मीयता
X

  • कैरम, लूडो, चेनिस चेकर सहित अन्य खेल खेलने में बच्चे हुए व्यस्त

धमतरी। एएनएन (Action News Network)

लाॅकडाउन के चलते लोगों को अपने घरों में रहने के सख्त निदर्ेश हैं। इस खाली समय का बच्चे और बड़े टीवी देखकर और घरों में कैरम, लूडो, चेनिस चेकर सहित अन्य खेल खेलकर बिता रहे हैं। इससे पारिवार के सदस्यों के बीच आत्मीयता भी देखने को मिल रही है।आज के भागदौड़ भरे समय में लोगों के पास परिवार तो क्या स्वयं के लिए समय का अभाव हो गया है। ऐसे में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए शासन द्वारा जो लाकडाउन लगाया गया है। उसमें लोग न चाहते हुए भी घरों में रहने को विवश हैं। ऐसे में जो खाली समय मिला है, उसका सदुपयोग परिवार के सदस्य घर के छोटे-मोटे कार्य कर और मनोरंजक कार्यक्रम देखकर कर रहे हैं।

लाॅकडाउन के चलते बच्चों के घर से बाहर गली-मोहल्लों में निकलने तक में पाबंदी लगी हुई है। ऐसे में बच्चे चाहकर भी खेलने के लिए घर से बाहर ही नहीं निकल पा रहे हैं। कोई घर के अंदर अपने भाई-बहनों और बड़े-बुजुर्गो के साथ कैरम, लूडो, सांप-सीढ़ी, तीरी-पासा,चेनिस चेकर सहित अन्य खेल खेलने में व्यस्त है तो कोई सुबह शाम घर के आंगन और छत पर बिल्लस व अन्य खेल खेल रहे हैं।ग्राम रूद्री के देवेन्द्र सिन्हा, ग्राम कुर्रा के धनीराम सिन्हा ने कहा कि लंबे समय बाद परिवार के सभी सदस्य ज्यादा समय तक घरों में हैं। अक्सर काम और अन्य कारणों के चलते परिवार के सदस्य बाहर ही रहते हैं। सालों बाद सभी के साथ ज्यादा समय बिताने को मिला है।

आपसी प्रेम और सहभागिता के लिए एक-दूसरे को समय देना आवश्क

मनोवैज्ञानिक गजानंद साहू ने कहा कि एक-दूसरे के बीच प्रेम और आपसी सहभागिता के लिए एक-दूसरे को समय देना बहुत आवश्यक है। आज के समय में इसका अभाव देखने को मिलता है। लाॅकडाउन के कारण आज जो समय घर पर रहने को मिला है, उसका सदुपयोग होना चाहिए। छोटों के साथ जब घर के बड़े समय बिताते हैं, तब बच्चों को संरक्षण मिलने के साथ ही साथ उनमें जिम्मेदारी का अहसास भी होता है। घर के छोटे-छोटे कार्यों को बच्चों के साथ करें, इससे उनमें घर के प्रति अपने कर्तव्य का बोध होता है।

Next Story
Share it