Top
Action India

सीएए के विरोध में वामदल संगठनों का दो दिवसीय धरना

सीएए के विरोध में वामदल संगठनों का दो दिवसीय धरना
X

नई दिल्ली। एएनएन (Action News Network)

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में वामदल समेत 30 संगठनों का दो दिवसीय धरना गुरुवार से जंतर-मंतर पर शुरू हुआ है। जन सरोकार मंच के बैनर तले चल रहे धरने में पूर्व सांसद हनन मुल्ला(कॉमरेड) और आरटीआई कार्यकर्ता अरुणा रॉय समेत कई नेता शामिल हैं। इस दौरान धरने में शामिल देशभर आए लोगों को भारत को सम्पन्न, समाजवादी गणराज्य बनाने की शपथ भी दिलाई गई।

अरुणा रॉन ने कहा कि केंद्र सरकार संसद में भुखमरी, बेरोजगारी पर नहीं बल्कि सीएए जैसे कानून लाकर देश के गंभीर मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाना चाह रही है। उन्होंने कहा कि सीएए लागू होने के बाद देशभर में दंगे हुए उसकी जिम्मेदार केंद्र सरकार है। वह गुजरात जैसे दंगे दिल्ली में करवा रही है। देश जल रहा है लेकिन सरकार का ध्यान लोगों के धर्म के नाम पर समाज को बांटने पर है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के जंतर-मंतर पर आयोजित इस दो दिवसीय धरने का उद्देश्य सीएए के खिलाफ विरोध प्रकट करना है। उन्होंने कहा, 'हम सविंधान की रक्षा के लिए धरना दे रहे हैं। हम यहां एकत्र होकर संपूर्ण नागरिकता लेने आये हैं।'

राजस्थान के अजमेर से आईं नवरती बाई ने कहा कि हम यहां सरकार को जगाने आए हैं, जो देश में दंगे करवा रही है। सरकार को सीएए कानून वापस लेना चाहिए। तभी हम सभी धर्मों के लोग शांति से एक साथ रह सकेंगे।

सतर्क युवा संगठन की सदस्य दिल्ली के कल्याण पुरी की मधुनिषा ने कहा कि मेरी शांत दिल्ली को जिहादियों ने जला डाला। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा का तांडव हुआ, जिससे लोग सहमे हुए हैं। सरकार इस देश के मुसलमानों पर जुर्म ढा रही है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Next Story
Share it