Top
Action India

अमेठी में मिली कामधेनु गाय

अमेठी में मिली कामधेनु गाय
X

नौ साल पहले रक्षाबंधन पर जन्मी इस गाय का नाम है 'राखी'

अमेठी, 24 दिसम्बर (हि.स.)। हिन्दुस्थान जैसे मुल्क में 'गाय' की बड़ी मान्यताएं हैं। खासकर हिंदू धर्म में गाय को मां का स्थान दिया गया है। इसी कारण ये पूजनीय भी है।पौराणिक कथाओं के अनुसार देवताओं के पास 'कामधेनु' नामक गाय हुआ करती थी जिससे जो मांगोु वह मिल जाता था। अब कलयुग में अमेठी में कामधेनु की श्रेणी में आने वाली गाय चर्चा का विषय बनी है।

संग्रामपुर ब्लॉक अंतर्गत ग्राम ठेंगहा शुकुलपुर में है अनोखी गाय

जिले के संग्रामपुर ब्लॉक अंतर्गत ग्राम ठेंगहा शुकुलपुर में रहने वाले साधारण ब्राह्मण परिवार भोला नाथ मिश्रा के घर पर करीब 9 साल पहले रक्षाबंधन के दिन एक गाय ने बछिया को जन्म दिया था। परिवार वालों की बछिया के जन्म लेने पर खुशी का ठिकाना नहीं था। घर वालों ने बछिया का नाम राखी रखा था। साढे़ 4 साल बाद उसके थन बड़े होने लगे तब घरवालों ने सोचा कि शायद यह पेट से है इसलिए ऐसा परिवर्तन दिखाई पड़ रहा है। लेकिन कुछ ही दिनों में जब वह बैठती थी तब उसके थन से दूध निकलने लगता था।

बिना गर्भ के साढ़े चार सालों से दे रही दूध

घर वालों ने इसकी सूचना पशु चिकित्सा अधिकारी को दी जिस पर पशु चिकित्सा अधिकारी ने मौके पर पहुंचकर गाय का चेकअप किया तो पता चला की गाय के गर्भ होने जैसी कोई बात नहीं है। तब घर वालों ने उसके थन से दूध निकलने की बात बताई।

डॉक्टर ने कहा कि जब दूध निकल रहा है तब आप लोग इसका दोनों मीटिंग दूध निकालिए इससे कोई समस्या नहीं है। शुरुआती दौर में यह गाय दोनों मीटिंग में एक लीटर दूध देती थी, लगभग 15 दिनों के बाद इस गाय ने दोनों मीटिंग में लगभग सात लीटर दूध देना शुरू कर दिया। इस समय इस गाय को दूध देते हुए लगभग साढ़े 4 वर्ष बीत चुके हैं और दूध निरंतर दे रही है। लोग कह रहे हैं निश्चित रूप से ये गाय अपने आप में एक अनोखी गौ-माता है।

भैंस के दूध से भी गाढ़ा है गौ माता का दूध

गौपालक भोला नाथ मिश्रा इस गाय को लेकर अपने आप को देवीकृपा तथा माता-पिता एवं बड़ों का आशीर्वाद मानते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है की इस गाय का दूध बहुत ही मोटा है, जिसने भैंस के दूध को भी पीछे छोड़ दिया है। गौ सेवक बताते हैं कि इसका दूध अमृत के समान है लेकिन हम इसका दावा नहीं कर सकते हैं क्योंकि हम लोग इसके ऊपर रिसर्च नहीं किए हैं हमने स्वयं आजमाया जरूर है।

Next Story
Share it