Top
Action India

प्रशासन ने जम्मू-कश्मीर में लॉकडाउन को और अधिक किया कड़ा

प्रशासन ने जम्मू-कश्मीर में लॉकडाउन को और अधिक किया कड़ा
X

जम्मू । एएनएन (Action News Network)

जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है और थमने का नाम नहीं ले रही है जिस को रोकने के लिए रविवार को भी लॉकडाउन जारी है। इसी बीच जम्मू संभाग के सबसे बड़े जच्चा-बच्चा अस्पताल (एसएमजीएस) में भर्ती हुई गर्भवती महिला एक बच्चे को जन्म देने के बाद उसमें शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। यह महिला अखनूर के परांगना गांव की रहने वाली है। इसी बीच प्रशासन ने जम्मू में लॉकडाउन को और अधिक कड़ा कर दिया है तथा महिला के गांव को भी सील कर दिया गया है। यह गर्भवती महिला पहले अखनूर अस्पताल में भर्ती थी जिसके चलते प्रशासन ने अखनूर उप जिला अस्पताल के डाक्टरों और कर्मचारियों समेत 22 लोगों को क्वारंटाइन केंद्र में भेजा है।

वहीं जम्मू के जच्चा-बच्चा अस्पताल में संपर्क में आए स्टाफ सदस्यों को भी घरों में ही क्वारंटाइन होने के लिए कहा गया है। वहीं कश्मीर घाटी में प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के खतरे को कम करने के लिए रेड जोन व वफर जोन इलाकों में घर.घर जाकर संक्रमण का पता लगाया जा रहा है। प्रशासन ने कश्मीर घाटी में लाकडाउन का और सख्ती से पालन करने को कहा है। कश्मीर में सकारात्मक मामलों की संख्या में वृद्धि के मद्देनजर घाटी में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।रविवार को भी सुरक्षबलों ने घाटी की मुख्य सड़कों को बंद रखा और लोगों की आवाजाही को रोकने के लिए कई स्थानों पर अवरोधक लगाए गए हैं। वहीं रविवार को भी कश्मीर घाटी के बाजार बंद हैं और सार्वजनिक परिवहन सड़कों से दूर है केवल फार्मेसियों और किराने का सामान खोलने की अनुमति दी गई है।

वहीं जम्मू में भी लॉकडाउन को सख्त करते हुए आवश्यक सामग्री दुकानें केवल शाम चार बजे तक ही खुल रही हैं। दुकानें खुली होने के दौरान भी पुलिस के जवान लोगों को सामाजिक दूरी रखने की हिदायतें दे रहे हैं। वहीं लोगों की आवाजाही रोकने के लिए चौक-चौहराहों पर अवरोधक लगाए हुए है तथा सुरक्षाबल आने-जाने वाले लोगों का पहचान पत्र तथा आवश्यक कार्य पूछने के बाद ही आगे जाने की अनुमति दे रहे हैं। इसी बीच जम्मू-कश्मीर के 51 गांव व मोहल्लों को रेड़ जोन घोषित किया गया है। 32 कश्मीर संभाग के तथा 19 जम्मू संभाग के गांव तथा मोहल्लों को रेड़ जोन की सूची में रखा गया है।

Next Story
Share it