Action India
अन्य राज्य

लॉकडाउन में धमतरी के 163 मजदूर अन्य प्रदेशों में फंसे

लॉकडाउन में धमतरी के 163 मजदूर अन्य प्रदेशों में फंसे
X

  • हरियाणा और राजस्थान के 42 मजदूरों ने धमतरी ज‍िला में ली है शरण

धमतरी । एएनएन (Action News Network)

कोरोना से बचाव व सुरक्षा के ल‍िए लागू लॉकडाउन में जिले के 163 मजदूर महाराष्ट्र व गुजरात समेत अन्य प्रदेशों में फंसे हुए हैं। इन मजदूरों को लाने राज्य शासन से अब तक जिला प्रशासन को कोई आदेश नहीं मिला है। वहीं धमतरी जिले में हरियाणा व राजस्थान के 42 मजदूर राहत शिविरों में शरण लिए है। दो दिन पहले मध्य प्रदेश व बस्तर क्षेत्र के मजदूरों को जिला प्रशासन ने वापस भेज दिया है।

लॉकडाउन से पहले धमतरी जिले के कई मजदूर, मजदूरी करने देश के विभिन्न प्रांत गए हुए थे। कोरोना से बचाव व सुरक्षा के लिए जब शासन ने लॉकडाउन लागू कर दिया, तो ऐसे मजदूरों की दिक्कत बढ़ गई है। श्रम पदाधिकारी अजय हेमंत देशमुख ने बताया कि धमतरी जिले के 163 मजदूर देश के महाराष्ट्र व गुजरात समेत कई जगहों में फंसे हुए है, जो श्रम विभाग से संपर्क कर वापस लाने के लिए गुहार लगा रहे हैं। हालांकि राज्य शासन ने ऐसे मजदूरों को वापस लाने के लिए अब तक कोई निर्देश जारी नहीं की है। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इन लोगों को वापस लाने के लिए पहल जरूर कर रही है।मजदूरों का कहना है कि लॉकडाउन के चलते कामकाज बंद है, ऐसे में अब वे वापस आना चाहते हैं, लेकिन अनुमति नहीं मिलने से वे वापस नहीं आ पा रहे हैं, इससे मजदूरों की चिंता बढ़ गई है।

श्रम पदाधिकारी अजय हेमंत देशमुख ने बताया कि लॉकडाउन में महाराष्ट्र व गुजरात में मजदूर फंसे हुए हैं। महाराष्ट्र में धमतरी जिले के 33 मजदूर, गुजरात में 83, मध्य प्रदेश में 11, तमिलनाडु में चार, उत्तर प्रदेश में एक, तेलंगाना में एक, ओडिशा में तीन, आंध्र प्रदेश में दो, बिहार में एक और दिल्ली में एक मजदूर है। फंसे मजदूरों की जानकारी राज्य शासन को दी गई है। इसी तरह धमतरी जिले में राजस्थान व हरियाणा के 42 मजदूर फंसे हुए हैं, जिन्हें जिले में बनाए आठ राहत शिविरों में रखा गया है। कुरूद ब्लाक के ग्राम परसट्टी, कचना व नगरी के सांकरा में राहत शिविर है। हरियाणा के 15 लोग और 27 राजस्थान के है। जबकि दो दिन पहले मध्य प्रदेश के जिले के 31 लोग, नगरनार के दो और कबीरधाम के नौ लोगों को भेज दिया गया है।

Next Story
Share it