Top
Action India

केंद्र व प्रदेश सरकार से प्राप्त निर्देशों के अनुरूप मंडी जिला में कफ्र्यू में और रियायतें : ऋ ग्वेद ठाकुर

मंडी । एएनएन (Action News Network)

मंडी जिला में कफ्र्यू में रियायतों के दायरे को और बढ़ाया गया है। जिला प्रशासन ने इसे लेकर नए आदेश जारी किए हैं। उपायुक्त मंडी ऋ ग्वेद ठाकुर ने इस बारे जानकारी देते हुए कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार से प्राप्त निर्देशों के अनुरूप मंडी जिला में कफ्र्यू में और रियायतें दी गई हैं। जिला में पहले की रियायतें यथावत जारी रहेंगी और जरूरी सामान की दुकानें पहले की तरह खुली रहेंगी। स्टेशनरी, कॉपी-किताबों और मोबाइल रिपेयर व रिचार्ज की दुकानें, जो पहले ह ते में केवल दो दिन खोली जा रही थीं, वे अब छूट की अवधि में पूरा ह ता खुली रहेंगी।

उपायुक्त ने कहा कि कफ्र्यू में छूट की अवधि में एक घंटे का इजाफा कर इसे तीन से बढ़ाकर चार घंटे किया गया है। अब जिला में कफ्र्यू में हर रोज 10 से दो बजे तक छूट रहेगी। उन्होंने कहा कि जिला में कफ्र्यू में छूट की अवधि के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग सभी दुकानें रोजाना खुली रहेंगी। लेकिन इनमें बार्बर, हेयर सैलून, ब्यूटी पार्लर, ठेके, होटल-रेस्टोरैंट, कैफे एवं खाने पीने के अन्य प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।

उपायुक्त ने कहा कि जिला के शहरी निकाय क्षेत्रों में अभी ये छूट नहीं दी गई है। मंडी जिला में सात शहरी निकाय क्षेत्र हैं, इनमें मंडी शहर, सुंदरनगर शहर, नेरचौक, रिवालसर, जोगिंदरनगर, सरकाघाट और करसोग शहर शामिल हैं। इन क्षेत्रों में वर्तमान में चल रही व्यवस्था ही लागू रहेगी, जो दुकानें वर्तमान में खुली हैं वे छूट की अवधि में यथावत खुली रहेंगी। केवल अतिरिक्त छूट के तौर पर स्टेशनरी व कॉपी-किताबों व मोबाइल रिपेयर एवं रिचार्ज की दुकानें दो दिन की बजाए पूरा हफ्ता खोलने की अनुमति दी गई है।

उपायुक्त ने लोगों से अपील की कि वे अपने व परिवार के कोरोना से बचाव के लिए अपनी जिम्मेदारी समझें। सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें और घर से बाहर निकलते हुए फेस कवर या मास्क जरूर पहनें। मुंह एवं चेहरे को ढके बिना बाहर निकलने पर लोगों का चालान कटेगा।
उपायुक्त ने साफ किया कि मंडी जिला के जो लोग बाहर के राज्यों से घर लौट रहे हैं, उन्हें होम क्वारंटाइन में रहना होगा। उनके लिए बॉर्डर पर जांच की व्यवस्था की गई है, उसके बाद वे अपने अपने घर पर होम क्वारंटाइन में रहेंगे। होम क्वारंटाइन का ठीक से पालन तय बनाने के लिए पंचायत प्रधान, स्वास्थ्य विभाग व राजस्व विभाग के कर्मियों को जिम्मेदारी दी गई है। यह भी व्यवस्था बनाई गई है कि जिला की सीमा में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति का रिकॉर्ड रखा जा है ताकि होम क्वरंटाइन को लेकर निगरानी की जा सके।

Next Story
Share it