Select Page

नव वर्ष में पांचवें दिन भगवान भाष्कर ने दिया दर्शन, कोहरे और धुंध ने फिर रोकी राह

नव वर्ष में पांचवें दिन भगवान भाष्कर ने दिया दर्शन, कोहरे और धुंध ने फिर रोकी राह

नई दिल्ली । टीम एक्शन इंडिया

वाराणसी। आंग्ल नववर्ष में घने कोहरे और धुंध से पार पाते हुए पांचवें दिन गुरुवार अपरान्ह में भगवान भाष्कर ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई लेकिन सूर्य की रश्मियों को कुछ ही देर में धुंध और कोहरे ने फिर अपने आगोश में ले लिया। अलसुबह से ही धुंध और गलन से जूझ रहे लोगों ने अपरान्ह में भगवान सूर्य को देख थोड़ा राहत महसूस किया। कुछ ही देर में उनकी खुशी काफूर हो गई।

नववर्ष के पहले ही दिन से घने कोहरे, धुंध के साथ पड़ रही कड़ाके की ठंड अब लोगों को तमाम गर्म कपड़े पहनने के बाद भी नस्तर की तरह हड्डियों में चुभ रही है। लोग दिन में भी अलाव और हीटर के पास कुछ देर बैठकर गलन से राहत पाने की कोशिश कर रहे हैं। ठंड के तेवर और तल्ख होते जा रहे हैं। पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी की वजह से हवा में भी नमी बढ़ने से सुबह शाम के अलावा दिन में भी गलन लोगों को सता रही है। हालांकि बुधवार को कोहरा अधिक घना नही रहा लेकिन धुंध ने पूरे दिन अपनी उपस्थिति बनाये रखी। मौसम विभाग ने अगले तीन-चार दिनों तक घने कोहरे के साथ ही ठंड बढ़ने की संभावना जताई है। बीते 24 घंटे में अधिकतम और न्यूनतम दोनों तापमान में भी कमी दर्ज की गई। गुरुवार को अपरान्ह एक बजे तापमान अधिकतम 14 डिग्री सेल्सियस, न्यूनतम 07 डिग्री सेल्सियस, आद्रता 74 फीसद और हवा की रफ्तार पांच किमी प्रति घंटा रही। बुधवार को अधिकतम 15.6 रिकार्ड किया गया। इसके साथ ही न्यूनतम तापमान 10.4 डिग्री सेल्सियस की तुलना में बुधवार को तापमान 9.8 डिग्री सेल्सियस रहा। ठंड और गलन के बीच वाराणसी का एयर क्वालिटी इंडेक्स संतोषजनक हो गया है। आज अपरान्ह में 102 अंक दर्ज किया गया। उल्लेखनीय है कि हवा की गुणवत्ता के आधार पर ही एयर क्वालिटी इंडेक्स में छह कैटेगरी बनाई गई है। इसमें शून्य से 50 तक अच्छी, 51 से 100 तक संतोषजनक, 101 से 150 तक प्रदूषित, 151 से 200 तक खराब, 201 से 250 तक अत्यंत खराब और 250 से अधिक को गंभीर की श्रेणी में रखा गया है।

Advertisement

Advertisement