Top
Action India

फिर गूंजी भक्तों की टेर, ‘म्हारो हेलो सुणोजी रामा पीर’

फिर गूंजी भक्तों की टेर, ‘म्हारो हेलो सुणोजी रामा पीर’
X

उदयपुर । Action India News

‘रूणिचे रा धनिया, अजमाल जी रा कंवरा.. माता मेणादे रा लाल, राणी नेतल रा भरतार, म्हारो हेलो सुणोजी रामा पीर’ राखी के साथ ही बाबा रामदेव के भक्तों के मुख पर यह भजन फिर से गूंजने लगा है। राजमार्गों से रामापीर की पताका लिए पदयात्री इसी भजन को गुनगुनाते हुए मारवाड़ की तरफ बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं।

हालांकि, कोरोना महामारी के संकटकाल के चलते इस बार रूणिचा धाम जाने वाले पदयात्रियों के जत्थे कम नजर आ रहे हैं। लेकिन, बाबा के भक्त मुंह पर मास्क बांधे, एक-दूसरे से निर्धारित दूरी बनाए हुए बाबा के दरबार में मस्तक नवाने निकल पड़े हैं।

उदयपुर के राजमार्गों से भी 5-5, 10-10 लोगों के जत्थे गुजरते हुए दिखाई दिए हैं। वे कहते हैं, मौका मिला तो उनकी समाधि पर मस्तक नवाएंगे, नहीं तो तीर्थ की माटी को ही माथे पर लगाकर लौट आएंगे।

उल्‍लेखनीय है कि रामापीर राजस्थान के प्रसिद्ध लोक आराध्य हैं जिनकी जयंती भाद्रपद माह की शुल्क पक्ष को मनाई जाती है। बाबा रामदेव ने भाद्रपद शुक्ल दशमी को समाधि भी ली थी। ऐसे में हर साल बाबा की बीज से बाबा की दशमी तक मेला भरता है लेकिन इस बार कोरोना काल के कारण मेले पर रोक लगा दी गई है।

Next Story
Share it