Top
Action India

मेट को लगातार 7वें वर्ष मिला राष्ट्रीय रोजगार क्षमता पुरस्कार

मेट को लगातार 7वें वर्ष मिला राष्ट्रीय रोजगार क्षमता पुरस्कार
X

नई दिल्ली। Action India News

महाराजा अग्रसेन टेक्निकल एजुकेशन सोसाइटी (टअळएर) संस्थापक अध्यक्ष, महाराजा अग्रसेन विश्वविद्यालय, हिमाचल प्रदेश के कुलाधिपति और डॉ. मुकर्जी स्मृति न्यास, दिल्ली के सचिव डॉ. नंद किशोर गर्ग के कुशल मार्गदर्शन में गत 21 वर्षों से स्थापित महाराजा अग्रसेन इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी निरंतर प्रगति के शिखर छू रहा है।

प्रतिभाशाली छात्रों को पुरस्कारों से सम्मानित करने के लिए समय-समय पर पूर्व राष्ट्रपति स्व. प्रणव मुखर्जी, पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण अडवाणी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केन्द्रीय मंत्री भारत सरकार महेंद्र पांडेय, पूर्व मंत्री सुब्रमणयम स्वामी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. अरुण जेटली, मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर, मुख्यमंत्री हिमाचल जयराम ठाकुर, गुजरात राज्यपाल देवव्रत आचार्य, असम राज्यपाल जगदीश मुखी, गोवा राज्यपाल मृदुला सिन्हा आदि अनेक प्रमुख लोगों के हाथों सम्मानित किया गया।

संकेत सिंह (सीएसई बैच 2016-20), 43 लाख रुपये के वार्षिक पैकेज के साथ 'लिंक्डइन' में चुने गए। दो अन्य छात्रों को माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में 45 लाख रुपये का वार्षिक पैकेज मिला। जहाँ सात्त्विक मिश्रा, एमएई विभाग ने एएसएचआरएई इंडिया चैप्टर द्वारा आयोजित 'स्टूडेंट पेपर प्रेजेंटेशन' प्रतियोगिता जीती और केपटाउन, दक्षिण अफ्रीका में आयोजित आरएल, सीआरसी-2020 सी में भाग लिया।

वहीं टीम टेकस्टैक ने स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 में एक लाख रु. का पुरस्कार जीता। प्रबंधन और इंजीनियरिंग दोनों के लिए मैट की समर्पित प्लेसमेंट सेल की प्रतिबद्धता के परिणामस्वरूप टीसीएस, इंफोसिस, पब्लिक सेपिएंट, डीएक्सडी टेक्नोलॉजी, जेडएस एसोसिएट्स, मैक्नीली एंड राईस जैसी प्रमुख कंपनियों में बी.टेक (2017-2021) और एमबीए के 157 से अधिक छात्रों का चयन हुआ, जिसमें 45 लाख का उच्चतम पैकेज भी है।

2019-20 में, सैंतीस छात्रों को 10 लाख से अधिक का पैकेज मिला। विभिन्न एजेंसियों से प्राप्त अनुदान भी मेट की सफलता का प्रमाण है। एएसएचआरएई इंडिया चैप्टर, मेट को एएसएचआरएई, अमरीका से तीन अलग-अलग परियोजनाओं के लिए 13300/ - अमरीकी डालर के प्रोजेक्ट उपकरण अनुदान मिला।

जीजीएसआईपी यूनिवर्सिटी, दिल्ली ने मैकेनिकल और आॅटोमेशन इंजीनियरिंग विभाग, मैट द्वारा आयोजित पर्यावरण ऊर्जा, पर्यावरण और स्थिरता 'नामक राष्ट्रीय संगोष्ठी के लिए 50,000/ - रु .का अनुदान दिया।

एआईसीटीआई, दिल्ली ने भी सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा प्रस्तावित लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए 1.5 लाख रु प्रदान किये। मेट की वर्तमान उपलब्धियों में कुछ प्रमुख हैं स्वाति सिंह, सीएसई ने 2019 में सिविल सेवा परीक्षा सफलतापूर्वक उत्तीर्ण की। सफलता का सिलसिला यहीं नहीं रुका, ईईई के छात्र, कुमार उत्कर्ष, निखिल कुमार सिंह, प्रियंका बेदी, शुभम कुमार मिश्रा, आईटी के अनुराधा, विवेक जोशी और अंकित अरोड़ा टाटा-पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन लिमिटेडमें नेशनल लेवल सिलेक्शन प्रोसेस, 2020 के माध्यम से चुने गए।

छात्रों के साथ साथ शिक्षकों ने संस्थान की सफलता को नये आयाम दिये। मैकेनिकल इंजीनियरिंग के विभागाध्यक्ष डॉ. वैभव जैन ने स्टूडेंट ब्रांच एडवाइजर 2020 अवार्ड जीता, जिसे अमेरिकन सोसाइटी आॅफ हीटिंग, रेफ्रिजरेटिंग एंड एयर-कंडीशनिंग इंजीनियर्स, अमरीका द्वारा प्रदान किया गया।

मेट द्वारा समय-समय पर अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय सम्मेलनों एवं वेबिनार सफलतापूर्वक आयोजित किये गये। इन सम्मेलनों में अमरीका, यूरोप, सिंगापुर और आॅस्ट्रेलिया के प्रोफेसरों ने विशेष व्याख्यान दिए। कोविड -19 की वजह से असामान्य स्थितियों के बावजूद मेट ने अपनी शैक्षणिक यात्रा जारी रखी और हमेशा की तरह प्रतिमान स्थापित किए।

Next Story
Share it