Action India
अन्य राज्य

आईएएस अफसर रानी नागर मामले में मायावती बोलीं, महिला सुरक्षा व सम्मान पर चुप्पी क्यों

आईएएस अफसर रानी नागर मामले में मायावती बोलीं, महिला सुरक्षा व सम्मान पर चुप्पी क्यों
X

लखनऊ । एएनएन (Action News Network)

हरियाणा की महिला आईएएस अधिकारी रानी नागर मामले पर सियासत शुरू हो गई है। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो व उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने बुधवार को मामले को लेकर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की। मायावती ने ट्वीट किया कि हरियाणा की महिला आईएएस अफसर रानी नागर को, 'नौकरी के दौरान अपनी जान को खतरा' के कारण अन्ततः अपनी नौकरी से ही इस्तीफा देकर वापस अपने घर यूपी लौट आना पड़ा है, जो अति-दुःखद व अति-दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा व सम्मान के मामले में ऐसी सरकारी उदासीनता व अन्यों की चुप्पी क्यों?

मायावती इससे पहले भी इस प्रकरण को उठा चुकी हैं। उन्होंने बीते दिनों कहा कि यूपी के जिला गौतम बुद्ध नगर की मूल निवासी व हरियाणा कैडर की आईएएस-2014 अधिकारी रानी नागर द्वारा, अपने कुछ उच्च अधिकारियों पर उत्पीड़न व बहन सहित इन्हें जान को खतरे के विरोध में, अन्ततः इस्तीफा देने की जो बात कही है यह अति-गंभीर मामला है। सरकार इसका तुरन्त उचित संज्ञान ले। उन्होंने कहा कि अनेक शिकायतों के बावजूद उक्त महिला आईएएस अधिकारी के खिलाफ जारी अत्पीड़न मामले की उच्च स्तरीय जांच कराकर दोषियों के विरूद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए, यह बीएसपी की हरियाणा व केन्द्र सरकार से भी मांग है।

वहीं समाजवादी पार्टी ने आज ट्वीट किया कि 'बेटी पढ़ाओ, बेटी बढ़ाओ' का श्रेय लेने वाली भाजपा सरकार में एक आईएएस बेटी तक सुरक्षित नहीं ! चुप क्यों हैं केंद्र एवं हरियाणा सरकार? ट्वीट में कहा गया कि गाजियाबाद निवासी आईएएस अधिकारी रानी नागर का हरियाणा में असुरक्षा के चलते नौकरी से इस्तीफा, दुखद! मामले में संज्ञान लें महामहिम राष्ट्रपति। दें बेटी को न्याय।
हरियाणा कैडर की 2014 बैच की आईएएस अफसर रानी नागर ने 4 मई को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इस्तीफे के पीछे कारण सरकारी डयूटी पर व्यक्तिगत सुरक्षा को बताया गया है। उन्होंने ईमेल से मुख्य सचिव हरियाणा को इस्तीफा भेजा था। इसकी प्रति राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री, संबंधित विभागों के प्रधान सचिव व निदेशकों को भेजी थी। रानी ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के नियमों का हवाला देते हुए इस्तीफा स्वीकार करने का आग्रह किया है। बताया जा रहा है कि इस्तीफा देने के बाद रानी नागर अपने पैतृक नगर गाजियाबाद लौट गईं थीं।

Next Story
Share it