Action India
अन्य राज्य

दूध की मांग घटने से तबेले वाले परेशान

दूध की मांग घटने से तबेले वाले परेशान
X

मुंबई । एएनएन (Action News Network)

पालघर जिले में लॉकडाउन से मिठाई की दुकानें,होटल डेरी बंद हैं। जिससे तबेले वाले परेशान है कि अब वह दूध का क्या करें। सबसे ज्यादा दूध की खपत पनीर व खोए को बनाने में होती है लेकिन इन दिनों इसको बनाने का कार्य ठप है,जिससे दूध मांग घट गई है। वानगांव इलाके में करीब 20 तबेले है, जिनसे हजारो लीटर दूध आस-पास के होटलों और दुकानो पर जाता था। बंदी के बाद इन तबेलों का दूध सिर्फ लोगो के घरों में ही जा रहा है। तबेले वाले खोया और घी भी बना रहे है, तो खरीदार नही मिल रहे। जिससे तबेले वालो की हालत पतली होती जा रही है। देवेंद्र मिश्रा ने बताया कि बोईसर में बड़े पैमाने पर दूध की खपत होती थी। लेकिन अब वहां दुकानें बंद है। लॉकडाउन की वजह से गांव से शहर में अंदर नहीं आने दिया जा रहा है।

अब रोजाना हो रहे दूध उत्पादन का क्या करें। जिससे दूध खराब हो रहा है। मिश्रा ने कहा कि थोड़ा बहुत दूध जो जा भी रहा है, लोग लॉकडाउन के बाद ही भुगतान की बात कह रहे है। उन्होंने कहा कि पशुओं का चारा न मिलने से तबेले वालो पर दोहरी मार पड़ी है। भरत भड़वाड ने तबेले के साथ ही दूध की खपत के लिए डेरी खोल रखी है, लेकिन लोगों के घरों से बाहर न निकलने से दूध-दही दोनो खराब हो रहे है। वाहनों के संचालन पर लगी पाबंदी से भी दूधिए परेशान है। उन्होंने सरकार से मदद की मांग की है।

Next Story
Share it