Top
Action India

मोदी जी के भेजे पैसे दे दो,जनधन खाते से पैसे निकालने की मची होड़

मुंबई । एएनएन (Action News Network)

लॉकडाउन के कारण गरीबों की हालत दयनीय हो गयी है। पालघर के जनजातीय बहुल क्षेत्रो में सरकार द्वारा भेजे गए 500 रुपए को निकालने के लिए बैंकों में महिलाओं की भीड़ उमड़ रही है। लेकिन इनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था को लेकर स्थानीय प्रशासन गंभीर नही दिख रहा है। बैंक प्रबंधन भले ही बैंक के अंदर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवा रहा हो, लेकिन बैंक के बाहर खुलेआम इसकी धज्जियां उड़ रही है। एक बैंक के अधिकारी ने बताया कि महिलाओं का सिर्फ एक ही कहना होता है, कि उनको मोदी के भेजे पैसे दे दो। सोमवार को वानगांव इलाके में बैंक ऑफ बड़ौदा की शाखा खुलने के घंटो पहले से सैकड़ो महिलाएं पंक्ति में खड़ी थी। इनमें से एक महिला ने कहा कि बंदी में परिवार के कमाई के सारे स्रोत बंद हो गए है।

500 रुपये की इस रकम से वह खाद्य सामग्री लेकर जाएगी तब घर का चूल्हा जलेगा। बोईसर में बैंक के सामने एक लंबी पंक्ति में चिलचिलाती धूम में अपनी बारी की पतिक्षा कर रही पार्वती कहती है, कि वह मजदूरी कर गुजर बसर करती थी। लेकिन तालाबंदी के बाद खाते में आने वाला यह 500 रुपये ही उनका एक मात्र सहारा है। एक बैंक के अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि कुछ महिलाएं ऐसी भी है,जिनके अन्य खातों में पैसे है, लेकिन वह गर्मी और कड़ी धूप में अपने जनधन खाते से 500 रुपये निकालने के लिए घंटो में लाइन में खड़ी रहती है। उन्होंने कहा कि महिलाओं के बीच एक अफवाह है, कि खाते में रुपए आ जाने के बाद निकासी न होने पर पैसे वापस न चले जाएं। बैंक में पहुँच रही महिलाओं का एक ही कहना होता है, कि मोदी के 500 दे दो।

Next Story
Share it