Action India
अन्य राज्य

हर्षोल्लास से की गई माँ विपतरिणी की पूजा

हर्षोल्लास से की गई माँ विपतरिणी की पूजा
X

देवघर । एएनएन (Action News Network)

सारठ स्थित बगीचा दीवान काली मंदिर में धूमधाम से मनाया गया वार्षिक मां वीपत्तारिणी पूजा ।वहीं इस दौरान मौके पर मन्दिर प्रांगण में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी थी। खास कर बंगाली समुदाय के लोगों में इस पूजा को लेकर बहुत आस्था है ।

वहीं पूजा के सम्बंध में मन्दिर के पुजारी दुखी राजहंस ने बताया कि इस पूजा का काफी महत्व है। मनुष्य के जीवन में जितनी भी विपदा क्यों न आवे इस पूजा को विधि विधान से करने से सभी विपदा खत्म हो जाती है ।

इसलिए इसे बिपत्तारिणी पूजा कहते हैं। इस पूजा के विधान में 13 प्रकार के फूल,फल, दुब घास आदि का बहुत महत्व है । वहीं पण्डित दुखी राजहंस ने बताया कि पूजा के दौरान दूर्वा घास का भी काफी महत्व है।

महिला व्रती 13 दूर्वा घास में 13 गाठ बांधकर काली मां को अर्पण के बाद इसे सभी महिला पुरुष अपने अपने हांथों में बांधते हैं। वहीं आयोजक पंचानंद दे और धीरेन दास ने बताया की यह पूजा पिछले 41 वर्षों से सभी के सहयोग से होते आ रहा है इस पूजा में समाज के सभी लोगों का योगदान होता है यह हमलोगों की वार्षिक पूजा है।

वहीं पूजा को सफल बनाने में धीरेन दास,ओजीत दे,पंचानंद चांद,परितोष दे,काजल चंद,कार्तिक दे,ओजीत दे,सुनील बहार, राजेश दे,नारायण दे,कार्तिक दे,शिवन दे आदि ने अपनी अहम भूमिका निभाई वहीं 470 व्रतियों ने नियम धर्म के साथ पूजा अर्चना किया।

Next Story
Share it