Top
Action India

मुस्लिम युवा तालीम-तरबियत-तिजारत-तरक्की को बनाएं लक्ष्य - मौलाना सूबेदार आलम

मुस्लिम युवा तालीम-तरबियत-तिजारत-तरक्की को बनाएं लक्ष्य - मौलाना सूबेदार आलम
X

उदयपुर। एएनएन (Action News Network)

मुस्लिम युवा तालीम, तरबियत, तिजारत व तरक्की, इन 4-टी को अपना लक्ष्य बनाएं। यह बात आयड़ मस्जिद के मौलाना सूबेदार आलम ने रविवार को मुस्लिम महासंघ के स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित समारोह में कही।

अलीपुरा स्थित रजा गार्डन में आयोजित समारोह में उन्होंने इन 4 टी पर जोर देते हुए कहा कि आज दुनिया जिस तरफ बढ़ रही है, उस तरफ का ध्यान रखते हुए तालीम हासिल की जाए। तरक्की के लिए दुनियावी तालीम जरूरी है। मुस्लिम समुदाय के बच्चे अच्छी तालीम हासिल करें और ऊंचे ओहदों पर पहुंचें ताकि वे अपने परिवार और समाज का न केवल नाम रोशन करें बल्कि समाज के विकास में भी योगदान दे सकें। उन्होंने विद्यालय, कॉलेज, हॉस्टल बनवाने आदि खोलने पर भी जोर दिया।

कुराने पाक की तिलावत के साथ शुरू हुए प्रोग्राम की सदारत मुस्लिम महासंघ महिला प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सरवतुन्नीसा खान ने की। मुस्लिम महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष के.आर. सिद्दीकी ने मुस्लिम महासंघ के अब तक के कार्यों का लेखा जोखा प्रस्तुत किया। मुस्लिम महासंघ के संस्थापक अध्यक्ष हाजी मोहम्मद बख्श ‘प्यारे भाई’ ने बताया कि मुस्लिम महासंघ की बुनियाद 2 फरवरी 2015 को रखी गई थी।

पिछले पांच वर्ष से यह तंजीम, तालीम, तरबियत, तिजारत, तरक्की के लक्ष्य पर काम कर रहा है। कई युवा और महिलाएं महासंघ से जुडक़र समाज को बढ़ाने में अपनी भूमिका निभा रहे हैं। महासंघ का मुख्य उद्देश्य कौम की तरक्की, मुल्क में अमन-खुशहाली है। फसाद व नाइंसाफी के खिलाफ मुस्लिम महासंघ ने समय-समय पर अपनी आवाज बुलंद की है। जहां कहीं भी हिंदू - मुस्लिम भाईचारे को बिगाडऩे की कोशिश की गई महासंघ के जिम्मेदारानों ने आपसी सोहार्द- सहयोग से हिंदू- मुस्लिम भाईचारे को बढ़ाने मे अपनी अहम भूमिका निभाई है।

Next Story
Share it