Action India

लखनऊ से गाजीपुर तक बन रहे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का विस्तार बक्सर तक होगा : नितिन गडकरी

लखनऊ से गाजीपुर तक बन रहे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का विस्तार बक्सर तक होगा : नितिन गडकरी
X
  • बिहार को मिला तोहफा, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया नये कोईलवर पुल का उद्घाटन

  • नये कोइलवार पुल पर दौड़ने लगीं गाड़ियां, बलिया के रास्ते उत्तर प्रदेश जाने वाले लोगों की भी होगी सहूलियत

  • कहा, बिहार आगे बढ़ रहा है, विकास का सपना होगा पूरा


पटना । एक्शन इंडिया न्यूज़

पटना-आरा को जोड़ने के लिए सोन नदी पर बने नये कोईलवर पुल पर गुरुवार से गाड़ियां दौड़ने लगीं। बिहार के साथ ही बलिया के रास्ते उत्तर प्रदेश जाने वाले लोगों की भी सहूलियत होगी। नया पुल वन-वे होगा। इस पर आरा से पटना की ओर गाड़ियां आ सकेंगी तथा पुराने पुल कोइलवर पुल का इस्तेमाल पटना से आरा की ओर जाने वाले वाहन कर सकेंगे। गुरुवार को केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस नये कोईलवर पुल का उद्घाटन किया।

इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने जनता को धन्यवाद करते हुए कहा, जब मैं पहले वाले कोईलवर पुल से गुजरा था तो मुझे पता चला कि कि लोगों को कितनी परेशानी होती है। बिहार में नीतीश जी की सरकार है और सड़कों का कायाकल्प बहुत तेजी से हो रहा है। बिहार में नदी के ऊपर सबसे अधिक पुल का निर्माण कराया जा रहा है। इस पुल के निर्माण से छपरा आरा और पटना के लोगों को बहुत बड़ी राहत मिली है।

उन्होंने ऐलान किया कि लखनऊ से गाजीपुर तक बन रहे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का विस्तार बक्सर तक होगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के बक्सर से जुड़ने पर बिहारवासियों को दिल्ली जाने के लिए एक सुगम और कम समय लेने वाला रास्ता मिल जाएगा। दरअसल, सीएम नीतीश कुमार ने पीएम नरेंद्र मोदी से भी आग्रह किया था कि पटना से दिल्ली का सड़क मार्ग से सफर आसान करने के लिए गाजीपुर तक आ रही लखनऊ-गाजीपुर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को बिहार के बक्सर तक पहुंचा दिया जाए।

पुल के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि बिहार विकास की ओर बढ़ रहा है। इसमें आधारभूत संरचना काफी महत्वपूर्ण है। रोड और पुल सेक्टर में अच्छा काम होने से विकास का सपना पूरा होगा। केंद्रीय मंत्री ने इस मौके पर कई सड़क परियोजनाओं के काम आरंभ होने की तारीख भी बतायी।

उन्होंने बताया कि शेरपुर से दिघवारा के बीच गंगा नदी पर तीन हजार करोड़ रुपये की लागत से पुल का निर्माण अगले वर्ष अप्रैल से आरंभ होगा। यह पटना रिंग रोड पैकेज-2 का हिस्सा है। मुंगेर-भागलपुर-मिर्जा चौकी सड़क पर मार्च 2021 से काम आरंभ होगा। औरंगाबाद-पटना-मुजफ्फरपुर-दरभंगा के बीच 7700 करोड़ की लागत से नई फोर लेन सड़क का डीपीआर बनाया जा रहा।

भोजपुर-बक्सर सड़क का काम अक्टूबर 2021 में पूरा होगा। कोसी ब्रिज का काम 2023 में पूरा होगा। पटना में गंगा पर नया पुल का निर्माण 2024 तक हो जाएगा। भागलपुर विक्रमशिला सेतु का निर्माण भी 2024 तक कराया जाएगा। पटना के गंगा ब्रिज का नवीनीकरण हुआ है गांधी सेतु के दूसरा लेन को भी दिसम्बर 2021 तक पूरा कर लिया जाएगा जिससे उत्तर बिहार से मध्य बिहार का सफर और आसान हो जाएगा। लोगों को जाम से निजात मिल जाएगी।

उन्‍होंने बताया कि छपरा में छह लेन के बाईपास का निर्माण होगा। सीवान से मशरख के बीच चार लेन सड़क का डीपीआर बन रहा। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का लाभ बिहार को मिले इसके लिए भरौली-बक्सर-हैदरिया चार लेन एलिवेटेड सड़क का डीपीआर अगले वर्ष जून तक बन जाएगा। मोकामा-मुंगेर सड़क के चौड़ीकरण का डीपीआर अप्रैल 2021 में बन जाएगा। मुजफ्फरपुर-बरौनी, मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी और खगडिय़ा-पूर्णिया फोर लेन का डीपीआर बनाया जा रहा है।

उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की। उद्घाटन समारोह में आरा सांसद सह केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री वीके सिंह, उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी, बिहार सरकार के स्वास्थ्य और पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय, कृषि, सहकारिता और गन्ना उद्योग मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह, बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह, सांसद राम कृपाल यादव मौजूद थे।

प्रसिद्ध गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर होगा नया कोइलवर पुल

उद्घाटन के दौरान केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि यह पुल बिहार की लाइफ लाइन है और इस लाइफ लाइन पुल का नाम महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर होगा। उन्होंने कहा कि आरा के लोग अगर प्रस्ताव भेजें तो इस पुल का नाम महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर रख दिया जाएगा।

राजद ने किया विरोध प्रदर्शन

उधर, कोईलवर में संदेश विधायक किरण देवी को निमंत्रण नहीं मिलने से नाराज राजद के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। राजद के कार्यकर्ताओं ने कहा कि पुल के उद्घाटन में स्थानीय विधायक को नहीं बुलाया जाना अपमान है। पुल के निर्माण के समय स्कूल तोड़ा गया था इसलिए हमारी मांग है कि स्कूल के निर्माण का शिलान्यास भी कराया जाये।

नियमित जाम से मुक्ति मिलेगी

नए पुल के बन जाने से पुराने कोईलवर पुल पर लगने वाले नियमित जाम से मुक्ति मिलेगी। एनएच-30 कॉरिडोर के पटना से भोजपुर, बक्सर, छपरा, मोहनिया और उत्तर प्रदेश के बलिया जाने और आने वालों को सहूलियत हो जायेगी। यह स्वर्णिम चतुर्भुज की सड़क तथा पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के जरिए देश के अन्य हिस्से से सीधे जुड़ जाएगा।

नये पुल की लंबाई 1.528 किमी, फिलहाल तीन लेन का निर्माण ही पूरा

जनवरी 2018 में इस योजना पर काम आरंभ हुआ था। पुल निर्माण की लागत 266 करोड़ रुपये है। नये पुल की लंबाई 1.528 किलोमीटर है। पुल के डेक की चौड़ाई 16.0 मीटर है तथा ऊपर में 1.5 मीटर का फुटपाथ भी है। पुल के 74 स्पैन हैं। प्रत्येक स्पैन की लंबाई 41.3 मीटर है। पीयर में 432 पाइल हैं। यह योजना छह लेन की है। फिलहाल तीन लेन का निर्माण ही पूरा हुआ है।

नया पुल 37 खंभे पर टिका

पुल की अभी एक लेन ही चालू हुई है। पुल की उत्तरी लेन का कार्य चल रहा है, जिसके 37 में से 11 स्पैन पर कार्य पूर्ण हो चुका है। डेढ़ मीटर की फुटपाथ की व्यवस्था भी की गई है। नया पुल 37 खंभे पर टिका है। अभी इसके 16 मीटर चौड़े तीन लेन का अपस्ट्रीम हिस्सा बनकर तैयार है। डाउनस्ट्रीम के तीन लेन पुल का उद्घाटन बाद में होगा। डाउनस्ट्रीम लेन का निर्माण अक्टूबर, 2021 तक पूरा करने का लक्ष्य है।

158 साल पुराना है पुराना कोईलवर पुल

पुराना कोईलवर पुल पटना से आरा और आरा से पटना की ओर आने वाले ट्रैफिक के लिए लाइफलाइन है। इसकी उम्र 158 साल है। वर्ष 1856 में इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ था और 1858 में इसका उद्घाटन वायसराय लार्ड एल्गिन ने किया था। फिल्मकार रिचर्ड एटेनबेरो ने अपनी फिल्म गांधी की शूटिंग इस पुल पर की थी।

Next Story
Share it