Action India

ओलंपिक जैसे बड़े टूर्नामेंट में खेलने का अनुभव बड़ा बोनस साबित होगा : नीलकांत शर्मा

ओलंपिक जैसे बड़े टूर्नामेंट में खेलने का अनुभव बड़ा बोनस साबित होगा : नीलकांत शर्मा
X

नई दिल्ली । एएनएन (Action News Network)

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के मिडफील्डर नीलकांत शर्मा का मानना ​​है कि अगले साल टोक्यो ओलंपिक जैसे बड़े टूर्नामेंट में खेलने का उनका अनुभव उनके लिए एक बड़ा बोनस साबित होगा। उन्होंने कहा, "मैं लगभग तीन साल से अंतरराष्ट्रीय सर्किट में हूं और भाग्यशाली रहा हूं कि हॉकी पुरूष विश्व कप 2018 और एफआईएच हॉकी ओलंपिक क्वालीफायर 2019 जैसी बड़ी प्रतियोगिताओं का हिस्सा रहा हूं। इस बेल्ट के तहत इतना अनुभव होना बहुत अच्छा है, जो अगले साल ओलंपिक जैसे टूर्नामेंट के लिए एक बड़ा बोनस होगा। मैंने दबाव की स्थितियों में शांत रहना सीखा है और मुझे अपनी भूमिका के बारे में अच्छी समझ है।"

उन्होंने कहा कि वह और पूरी भारतीय टीम ने कोराना वायरस महामारी के कारण लगाए गए देश व्यापी लॉकडाउन के दौरान अपनी फिटनेस बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित किया है। नीलकांत ने कहा कि वर्तमान में पूरी टीम बेंगलुरु के भारतीय खेल प्राधिकरण परिसर में अपने कमरों में कड़ा अभ्यास कर रही है, ताकि इस अनिश्चित अवधि के दौरान स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित किया जा सके।

उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि हम सभी के लिए पिछले कुछ महीनों से कठिन समय रहा है। हम इस समय का उपयोग प्रशिक्षण और फिटनेस को बनाए रखने के लिए कर रहे हैं। हम पूरे दिन अभ्यास कर रहे हैं। हम भविष्य में जब मैदान पर होंगे तो उस समय फिटनेस एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

उन्होंने कहा कि हमारे वैज्ञानिक सलाहकार रॉबिन अर्केल ने कुछ अद्भुत फिटनेस शेड्यूल तैयार किया है, जो हमें अपने फिटनेस मानकों को बनाए रखने में मदद कर रहा है।नीलकांत ने आगे कहा कि मैदान पर उनकी भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह और हार्दिक सिंह के साथ अच्छी तालमेल है।

उन्होंने कहा, "जिस तरह से मनप्रीत और मैं मैदान पर संवाद करते हैं वह बहुत ही शानदार है। मनप्रीत हम सभी को अपने खेल खेलने के तरीके से प्रेरित करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि हर खिलाड़ी किसी न किसी तरह से टीम के लिए योगदान दे रहा है। साथ ही मैं हार्दिक के साथ एक शानदार साझेदारी करता हूं। हम एक-दूसरे के खेल को समझते हैं, जिससे हमें एक-दूसरे का समर्थन करना आसान हो जाता है। हम पिछले कुछ समय से अच्छी तरह से संवाद कर रहे हैं और उम्मीद है कि अंततः मैदान पर हम अभ्यास में वापस आते ही सही नोट पर प्रहार कर पाएंगे।”

Next Story
Share it