Select Page

सिंगरेनी कोलियरीज के निजीकरण का कोई इरादा नहीं : प्रधानमंत्री मोदी

सिंगरेनी कोलियरीज के निजीकरण का कोई इरादा नहीं : प्रधानमंत्री मोदी

रामागुंडम/नई दिल्ली। एक्शन इंडिया न्यूज

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को जोर देकर कहा कि सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड (एससीसीएल) के निजीकरण का केंद्र के पास कोई प्रस्ताव नहीं है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे इस संबंध में अफवाहों पर ध्यान न दें।

प्रधानमंत्री ने तेलंगाना के रामागुंडम में 6,338 करोड़ रुपये की लागत से तैयार फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स लिमिटेड (आरएफसीएल) उर्वरक संयंत्र को राष्ट्र को समर्पित करने के साथ ही 9,500 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकासात्मक परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस मौके पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने इशारों ही इशारों में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पर अफवाह फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा, “राजनीतिक स्वार्थ के लिए कुछ लोग जनता को भड़काने के लिए अफवाह फैलाते हैं।

मोदी ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि एससीसीएल में तेलंगाना सरकार की 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है। केंद्र के पास केवल 49 प्रतिशत है। ऐसे में स्पष्ट है कि केंद्र एससीसीएल के निजीकरण का फैसला नहीं ले सकता। उन्होंने कहा कि कोयला खदानों की नीलामी पूरी पारदर्शिता के साथ की जा रही है। जहां से खनिज निकाले जाते हैं वहां की स्थानीय आबादी को लाभ पहुंचाने के लिए हमने डीएमएफ बनाया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने विकासात्मक परियोजनाओं के लिए तेलंगाना के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि आज तेलंगाना के लिए विकास परियोजनाओं में 10,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि दी गई है। इससे उद्योगों के साथ-साथ कृषि को भी फलने-फूलने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि फर्टिलाइजर प्लांट, नई रेलवे लाइन और हाईवे से औद्योगीकरण को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।

Advertisement

Advertisement