अन्य राज्यमध्य प्रदेश

अर्चना चिटनिस की पहल पर सीवरेज योजना के साथ ही नदी में मिल रहे दूषित पानी के उपचार हेतु मिली स्वीकृति

बुरहानपुर
पूर्व मंत्री एवं विधायक श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) के अथक प्रयासों के परिणाम रूवरूप बुरहानपुर नगर निगम की अमृत 2.0 अंतर्गत सीवरेज योजना को स्वीकृति मिल गई है। शासन ने 110.52 करोड़ रूपए की स्वीकृति जारी की है। योजनांतर्गत शहर के ताप्ती नदी में मिलने वाले 19 नालों के पानी का उपचार भी किया जाएगा, जिससे ताप्ती नदी दूषित नहीं होगी।

श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि बुरहानपुर नगर पवित्र ताप्ती नदी के किनारे स्थित है और वर्तमान में शहर के 19 नालों का पानी बिना किसी ट्रीटमेंट के सीधे ताप्ती नदी में मिलकर पानी को प्रदूषित कर रहे हैं। जो मन में काफी पीड़ादायक है और दिल पर बोझ था। अब उक्त अहम स्वीकृति के बाद ताप्ती नदी में मिलने वाले 19 नालों के दूषित पानी का उपचार कर नदी को प्रदूषित होने से मुक्ति दिला सकेंगे। आज बहुत ही सुकून है कि इस दिशा में सफलता मिली है। श्रीमती चिटनिस ने बताया कि यह कार्य अमृत 1.0 में स्वीकृत सीवरेज के कार्य के साथ ही किया जाना था किन्तु तत्समय इसे नहीं किया गया जिसके कारण नदी का प्रदूषण जारी है। अमृत 2.0 में भी सीवरेज योजना का कार्य में इसे सम्मिलित नहीं किया गया था। अमृत 2.0 के लिए एसएलटीसी द्वारा 85 करोड़ की स्वीकृति भी दे दी गई थी। सीवरेज योजना का कार्य पूर्ण होने के बाद भी 19 नालों का दूषित पानी ताप्ती नदी में जाता। क्योंकि सीवरेज योजना की स्वीकृति के बाद इस योजना में हमें कोई भी स्वीकृति प्राप्त नहीं हो सकती थी। इस समस्या के निराकरण हेतु मेरे द्वारा सतत् प्रयास कर मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव जी एवं नगरीय विकास एवं आवास, संसदीय कार्य विभाग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय सहित संबंधित उच्चाधिकारियों से मुलाकात एवं पत्राचार कर ताप्ती नदी में मिलने वाले 19 नालों के दूषित पानी के उपचार हेतु सीवरेज योजना के डीपीआर में शामिल करके योजना स्वीकृति मांग कर अतिरिक्त राशि स्वीकृत करने मांग रखी जाती रही। क्योंकि नदी को प्रदूषित होना जारी रखकर सीवरेज की योजना का क्रियान्वयन औचित्यहीन होता। जिसके बाद विशेष प्रयासों के परिणाम रूवरूप ताप्ती नदी में मिलने वाले 19 नालों के पानी का उपचार हेतु 25.52 करोड़ रूपए की अतिरिक्त स्वीकृति जारी कर दी गई है। बुरहानपुर सीवरेज योजना की डीपीआर की कुल लागत 110.52 करोड़ रुपए थी। बुरहानपुर सीवरेज योजना के लिए शासन द्वारा स्वीकृत लागत 85 करोड़ रुपए थी इसलिए टेंडर दस्तावेज दो भागों 85 करोड़ एवं 25.52 करोड़ रूपए का जारी किया गया। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि पूर्व महापौर अतुल पटेल के अनुभव व भौगोलिक समझ का भी कंसल्टेंट एजेंसी को योजना का प्रारूप बनाने में महती सहभागिता रही।

श्रीमती चिटनिस ने उक्त स्वीकृति पर मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव, नगरीय विकास एवं आवास, संसदीय कार्य विभाग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय का आभार व्यक्त करते हुए सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल एवं महापौर श्रीमती माधुरी अतुल पटेल सहयोग हेतु धन्यवाद ज्ञापित किया।

विधायक श्रीमती अर्चना चिटनिस ने बताया कि इंटरसेप्शन व डायवर्सन के संबंध में बुरहानपुर शहर की सीवरेज परियोजना तीनों चरण की कार्ययोजना की लागत लगभग 155 करोड़ रूपए की थी। अमृत योजनांतर्गत बुरहानपुर नगर निगम क्षेत्र में सीवरेज नेटवर्क डालने हेतु एक चरण की कार्ययोजना लगभग 83 करोड़ रूपए की स्वीकृति दी गई, इससे 17 वार्ड पूर्ण रूप से एवं 17 वार्ड में आंशिक रूप से सीवरेज नेटवर्क डाला गया है। उक्त स्वीकृत कार्ययोजना का क्रियान्वयन किया जाकर कार्य पूर्णता की ओर है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button