Top
Action India

ओपेक और सहयोगी देश जुलाई से ज्यादा तेल के उत्पादन कटौती पर हुए सहमत

ओपेक और सहयोगी देश जुलाई से ज्यादा तेल के उत्पादन कटौती पर हुए सहमत
X

नई दिल्ली । एएनएन (Action News Network)

सऊदी अरब और अन्य प्रमुख तेल उत्पादकों के नेतृत्व में ओपेक के सदस्यों ने जुलाई के में ऐतिहासिक उत्पादन कटौती करने के लिए सहमति व्यक्त की। जबकि तेल की कीमतों में अस्थायी रूप से सुधार हो रहा है और कोरोनावायरस लॉकडाउन में सभी देशों में ढील दी जा रही है।

पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन ने एक बयान में कहा कि 13 सदस्यीय संगठन और उसके सहयोगियों विशेष रूप से रूस ने मई और जून में कटौती को बढ़ाने का फैसला किया है। दुनिया भर के देशों में कोरोनॉयरस के प्रसार को रोकने के लिए सख्त लॉकडाउन लगाए थे और इसके कारण मांग में गिरावट की वजह से तेल की कीमतों में गिरावट आई थी।

अप्रैल समझौते की शर्तों के तहत ओपेक और तथाकथित ओपेक+ ने 1 मई से जून के अंत तक प्रति दिन 9.7 मिलियन बैरल (बीपीडी) की उत्पादन कटौती करने का वादा किया। फिर कटौती को जुलाई से धीरे-धीरे कम करके दिसंबर तक 7.7 मिलियन बीपीडी तक ले जाया गया।

वर्तमान में ओपेक के अध्यक्ष अल्जीरियाई तेल मंत्री मोहम्मद अर्कब ने बताया कि जुलाई के लिए 9.6 एमबीबीपी कटौती पर सहमति हुई थी, जो मई और जून के लिए 9.7 एमबीपीडी से थोड़ा नीचे थी। उन्होंने कहा कि प्रमुख उत्पादकों के तेल मंत्री इस समझौते का आकलन करने के लिए मासिक बैठक करेंगे।

अमेरिका के ऊर्जा मंत्री डैन ब्रोइलेट ने कटौती के विस्तार का स्वागत किया। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, " एक महत्वपूर्ण समझौते पर पहुंचने के लिए मैं ओपेक-प्लस की सराहना करता हूं, जो तेल की मांग में सुधार और दुनिया भर में अर्थव्यवस्था के फिर से खुलने के महत्वपूर्ण समय पर हुआ है।"

Next Story
Share it