Action India
अन्य राज्य

कोरोना से भी घातक है पहले की अन्य बीमारियों की अनदेखी करना : डॉ. नीरज

कोरोना से भी घातक है पहले की अन्य बीमारियों की अनदेखी करना : डॉ. नीरज
X

बेगूसराय । एएनएन (Action News Network)

कोरोना वायरस से बचने का सबसे उत्तम बचाव सोशल डिस्टेंसिंग है, इसे पूरी दुनिया मानती है। लेकिन कोरोना संक्रमण के भय से हम अन्य घातक बीमारियों की अनदेखी नहीं कर सकते हैं, क्योंकि ऐसा करना और भी परेशानी का कारण बन सकता है। कोरोना आपदा के समय इस बीमारी से जुड़ी बातें भी सोशल मीडिया पर खूब आ रही है। व्हाट्सएप्प, फेसबुक समेत हर जगह कोरोना के लक्षण, इलाज और इससे जुड़ी सावधानियों के बारे में लोग जानकारी प्रसारित कर रहे हैं। इसमें बहुत सी बातें गलत हैं, भ्रामक बातें भी फैलाई जा रही हैं।

इसको लेकर ग्लोकल अस्पताल के चिकित्सकों ने जनता से सीधा संवाद कर लोगों को जागरूक करना शुरू कर दिया है। जिसमें न्यूरो विशेषज्ञ डॉ. शम्भू कुमार, किडनी रोग विशेषज्ञ डॉ. रूपक कुमार, लिवर रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रभाकर ठाकुर, सर्जन डॉ. चंदन कुमार, पैथोलोजिस्ट डॉ. निधि गुप्ता और हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश चौधरी फेसबुक के माध्यम से लोगों के चिकित्सा संबंधी समस्या का निराकरण कर रहे हैं। ग्लोकल के चिकित्सकों ने बताया कि कोरोना से बचाव जरूरी है, लेकिन पहले से ग्रसित रोगों का इलाज नहीं करा पाना भी प्राण घातक है।

हृदय रोग, ब्लड प्रेशर रोग, किडनी के मरीज, स्ट्रोक-लकवा या मिर्गी के मरीज और अन्य कई रोगों के मरीज इस लॉकडाउन मेंं अपना इलाज नहीं करा पाने की वजह से काफी गंभीर हालत में अस्पताल पहुंच रहे हैं। हर रोज दो-तीन मरीज मरणासन्न अवस्था में अस्पताल आ रहे हैं। जिनकी जान बचाना कठिन हो जा रहा है। अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. नीरज झा ने बताया कि लॉकडाउन मेंं बेगूसराय के रेड जोन में होने की वजह से मरिजों को पटना के अस्पताल भर्ती करने से मना कर लौटे रहे हैं, रोज मरीज पटना से लौट कर यहां आ रहे हैं। ऐसे में अस्पताल को और बेहतर ढंग से चलाने की जिम्मेदारी है। बंदी की वजह से अस्पताल कर्मियों का अस्पताल तक आना भी कठिन है।

इन 40 दिनों में अस्पताल की सेवा सुचारू रूप से चली है और दो सौ से अधिक मरीजों को भर्ती कर उनकी सेवा की गई है। छह मई को एक बार फिर दोपहर दो सेेे तीन बजे तक फेसबुक लाइव कार्यक्रम से जुड़ कर सैकड़ों लोग अपने और अपने परिजनों-परिचितों की बीमारी से जुड़े सवाल पूछकर सतर्क हो सकते हैं।

Next Story
Share it