Action India
बिहार

सेवा समाप्त करने के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे आयुष कर्मी

सेवा समाप्त करने के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे आयुष कर्मी
X

बेगूसराय। एक्शन इंडिया न्यूज़

राजकीय आयुर्वेद कॉलेज-सह-चिकित्सालय तथा देसी चिकित्सालय में कार्यरत तृतीय एवं चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी की सेवा समाप्त करने के खिलाफ कॉलेज के मुख्य द्वार पर मंगलवार से अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू हो गया है।

अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे मो. असलम, चंदन, मो. जफर, मुस्कान, पूजा, शिवजी एवं राहुल आदि ने कहा कि बिहार सरकार के आयुष के विशेष सचिव के निर्देश पर पूरे बिहार में स्वास्थ्य विभाग आयुष के सभी महाविद्यालय एवं जिला देसी चिकित्सालय को खोलने का निर्णय लिया गया। जिसके तहत 620 पदों हम सब की बहाली जनवरी 2020 में की गई थी, कोरोना जैसी महामारी में न्यूनतम वेतन पर कार्य किए। जिसके तहत स्वास्थ्य मंत्री एवं कॉलेज प्राचार्य द्वारा आश्वासन दिया गया था कि आप लोग के मेहनत से महाविद्यालय को मान्यता मिला है, इसलिए आने वाले समय में अनुभव पत्र के आधार पर संविदा या समायोजन कर दिया जाएगा। लेकिन हम लोगों की सेवा अचानक 31 मार्च को समाप्त कर दी गई। इसलिए सभी कर्मियों को अपने-अपने कार्य स्थान पर वापस लिया जाए एवं नियमों अनुसार संविदा या समायोजन किया जाए।

हम लोगों की मांग पूरा नहीं किया जाएगा तो अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे रहेंगे। आने वाले समय में यह आयुर्वेदिक कॉलेज फिर से बंद हो जाएगा। अस्पताल एवं कॉलेज में एएनएम, जीएनएम, कंपाउंडर, म्यूजियम कीपर, लिपिक, परिचारी, लैब टेक्नीशियन, एक्स-रे टेक्निशियन, कोई भी कर्मचारी नहीं है, सफाई कर्मी और माली से काम लिया जा रहा है।

Next Story
Share it