Action India
बिहार

डीएपी की किल्लत से रबी की खेती करने में किसानों की परेशानी बढ़ी

डीएपी की किल्लत से रबी की खेती करने में किसानों की परेशानी बढ़ी
X

निर्मली। एक्शन इंडिया न्यूज़


निर्मली अनुमंडल के दोनों प्रखंड में रबी फसल की बुआई शुरू होते ही इलाकें में डीएपी खाद की किल्लत शुरू हो गई है। इससे किसानों की परेशानी बढ़ गई है। सूत्र बताते हैं कि जिले में आवश्यकता के अनुरूप डीएपी खाद उपलब्ध नहीं है।जिस वजह से किसान महंगे दाम पर खाद खरीदने को मजबूर हैं।अधिकतर खुदरा विक्रेताओं के पास डीएपी नहीं है। एनपीके और 20:20:13 खाद की कीमत सरकारी स्तर पर ही बढ़ा दिये जाने से गेहूं की खेती करने में जुटे किसान पूरी तरह हाताश दिख रहे हैं।पहले 11 सौ 50 रुपये प्रति बैग की दर से मिलने वाले एनपीके की कीमत सरकारी स्तर पर 14 सौ 50 रुपये प्रति बैग कर दी गयी है, जबकि एक हजार रुपये प्रति बैग मिलने वाले 20:20:13 खाद की कीमत 12 सौ 20 रुपये प्रति बैग तय की गई है। बढ़ी कीमतों के साथ एनपीके और 20:20:13 का उपयोग कर गेहूं की खेती करना किसानों के लिए की परेशानी तब बढ़ रही है जब कालाबाजारी के तहत डीएपी 1500 से 1600 सौ रुपये प्रति बैग मिल रहा हैं । और महंगे दामों में भी खरीदने की विवशता किसानों की बनी हुई है। बीएओ निर्मली के महेंद्र प्रसाद साहू ने बताया कि किसानों को खाद की किल्लत नहीं होगी । बहुत जल्द ही डीएपी की समस्या का निदान किया जायेगा। ताकि किसानों को परेशानी नहीं हो।

Next Story
Share it