Action India
बिहार

शराबियों का अड्डा बना बेगूसराय समाहरणालय का इलाका

शराबियों का अड्डा बना बेगूसराय समाहरणालय का इलाका
X

बेगूसराय। एक्शन इंडिया न्यूज़


बिहार के विभिन्न जिलों में जहरीली शराब से हुई मौत के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रोज शराब की समीक्षा कर रहे हैं। पुराने अधिकारी के.के. पाठक को एक बार फिर मद्य निषेध विभाग की जिम्मेवारी दी गई है। सरकार के निर्देश के बाद प्रशासन एक्शन में आई है। ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है, शराब कारोबारी गिरफ्तार किए जा रहे हैं, देशी-विदेशी शराब बरामद किए जा रहे हैं, भट्ठी ध्वस्त किया जा रहा है लेकिन इन सबके बीच बेगूसराय जिला के सबसे वीआईपी इलाका समाहरणालय के आसपास बड़ी संख्या में ना केवल शराब कारोबारी बल्कि, नशे के सौदागरों का जमावड़ा लगता है। इसका प्रत्यक्ष नजारा देखा जा सकता है, समाहरणालय एवं विकास भवन के आसपास।

समाहरणालय तथा विकास भवन के बीच बड़ी संख्या में शराब की बोतल फेंकी हुई है। जिला के सबसे बड़े अधिकारी डीएम के कार्यालय के आगे का नाला, विकास भवन स्थित उप विकास आयुक्त और उत्पाद अधीक्षक के कार्यालय के बगल का क्षेत्र तमाम जगहों पर बड़ी संख्या में शराब की बोतल, प्लास्टिक का सिरिंज, कफ सीरप का बोतल तथा अन्य आपत्तिजनक सामग्री फेंका हुआ है। नाली और कार्यालय के आसपास बड़ी मात्रा में शराब की खाली बोतल मिलने से लग रहा है कि पियक्कड़ों ने इस पॉश इलाके को अपना अड्डा बना लिया है।

सूत्र बताते हैं कि यहां सूर्यास्त होने के बाद ना केवल पियक्कड़ों, बल्कि होम डिलीवरी करने वालों का भी जमावड़ा लगता है। बड़े पैमाने पर कारोबारी यहां शराब की डिलीवरी करते हैं। हालांकि उत्पाद अधीक्षक सुनील कुमार सिन्हा का कहना है कि पूरा प्रशासन शराब कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए एक्शन मोड में काम कर रहा है। लगातार छापेमारी कर देसी-विदेशी शराब बरामद करने के साथ साथ कारोबारी पकड़े जा रहे हैं। इन महत्वपूर्ण कार्यालयों के आसपास शराब की बोतल कहां से आई इसकी जांच की जाएगी, जांच के बाद कड़ा एक्शन लिया जाएगा। अब उत्पाद अधीक्षक चाहे जो कुछ कह लें, लेकिन इतना तो तय है कि समाहरणालय के आसपस बड़े पैमाने पर मिल रही शराब की बोतलें शराबबंदी कानून की धज्जियां उड़ाते नजर आ रही है।

Next Story
Share it