Top
Action India

सरकारी बस पड़ाव की नहीं बदली तस्वीर

सरकारी बस पड़ाव की नहीं बदली तस्वीर
X

सहरसा। एक्शन इंडिया न्यूज़

सुपर मार्केट के निकट लगभग बनकर तैयार सरकारी बस स्टैंड से लोगों को कोई लाभ नहीं मिल रहा है। जिलाधिकारी के आदेश के बावजूद भी सरकारी बस स्टैंड का अब तक कायाकल्प नहीं हो सका। जिस कारण शहर में जाम की स्थिति अब भी बरकरार है।

इस बस स्टैंड के माध्यम से अभी भी छह बसे चलाई जा रही है। इनमें सभी सरकारी बसे ही खुल रही है। पिछले तीन वर्षों में पदस्थापित होने वाले जिलाधिकारी 15 दिनों के अंदर बस स्टैंड को चालू करने का आश्वासन तो देते रहे।लेकिन यह धरातल पर नहीं उतर सका। जिस कारण शहर की बड़ी आबादी प्रतिदिन लगने वाले जाम से परेशान हो चुकी है।

इस बस स्टेंड से पश्चिम की ओर जाने वाले बसों को खोलने को लेकर सडक सुरक्षा संसदीय क्षेत्र समिति बैठक में सांसद दिनेश चन्द्र यादव के साथ 28 जून को सहमति हुई थी। लोगों को आशा जगी कि कुछ राहत जल्द मिलेगा। लेकिन लगभग 20 दिन बीतने के बाद भी स्थिति जस की तस है।

हालांकि, नये बस स्टैंड का निर्माण अब तक पूर्ण नहीं हुआ है। लेकिन गंगाजल चौक स्थित बस स्टैंड से काफी अधिक सुविधा यात्रियों के लिए उपलब्ध है। साथ ही बस के रख रखाव की भी अच्छी व्यवस्था है। बुडको द्वारा तीन करोड़ 63 लाख की राशि से बस स्टैंड का निर्माण कार्य किया जाना था। लेकिन राशि के अभाव में तीन वर्ष से अधिक समय से शुरु हुआ यह निर्माण आज तक पूर्ण नहीं हो सका।

जिलाधिकारी कौशल कुमार ने करीब एक वर्ष पूर्व 21 अगस्त 2020 को बस स्टैंड का निरीक्षण कर मौजूद बुडको के कार्यपालक अभियंता को 15 दिनों के अंदर बस स्टैंड को चालू करने का निर्देश दिया था। लेकिन दुर्भाग्य यह है कि 15 दिन की बात तो दूर आज इस निर्देश को लगभग एक वर्ष बीत चूके हैं। लेकिन सर जमीन पर किसी प्रकार का गतिविधि नजर नहीं आ रही है।सडक सुरक्षा संसदीय समिति की बैठक में भी इस बस स्टैंड से निजी बसों के खोलने का निर्णय लिया गया। लेकिन यह निर्णय भी अमली जामा नहीं पहन सका।

जिलाधिकारी के निरीक्षण के बाद पुराने जर्जर भवनों को तोड़ने का निर्देश दिया था। साथ ही मुख्य गेट के निर्माण की बात कही थी। इसके अलावे बस स्टैंड में प्रवेश के लिए मुख्य सडक से बस स्टेंड के गेट तक पीसीसी सड़क बनाने की बात कही गई थी। लेकिन धरातल पर ऐसा कुछ नहीं दिख रहा है। ऐसे में एक बार फिर से पुरानी स्थिति बनती दिख रही है। जबकि नए बस स्टैंड बनने से शहर के मध्य बने बस स्टैंड के कारण लगने वाले जाम से लोगों को बड़ी राहत मिल सकती है। नए बस स्टैंड में यात्रियों की सुविधाओं के साथ साथ सभी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए निर्माण किया गया है।

इस बाबत पूछे जाने पर बुडको कार्यपालक अभियंता अनिल कुमार शर्मा ने बताया कि पैसे की कमी के कारण बस स्टैंड का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो सका है। वे अपने स्तर से विभाग को राशि के लिए लिखे हैंं। राशि उपलब्ध होते ही निर्माण किया संभव हो सकेगा।वैसे कंट्रेक्टर पर दबाव बनाया जा रहा है।

नगर परिषद द्वारा जिलाधिकारी के निर्देश पर नये बस स्टैंड के अंदर जर्जर भवन को तोड दिया गया है।जबकि बचा निर्माण कार्य बुडको द्वारा पूरा कराया जायेगा।सरकारी बस स्टैंड में यात्री शेड तथा जमीन समतलीकरण का कार्य पूरा कर लिया गया है। लेकिन पहुंंच एवं निकास पथ पर अतिक्रमणकारियों का कब्जा नहीं हटाया जा सका है। खाली पड़े जगह का उपयोग निजी ठेकेदार द्वारा अपना बालू गिट्टी रखकर उपयोग किया जा रहा है।



Next Story
Share it