Top
Action India

धमतरी : जिले के कई धान खरीदी केंद्रों में बारदाने की कमी, खुले बाजार से खरीदना पड़ रहा

धमतरी : जिले के कई धान खरीदी केंद्रों में बारदाने की कमी, खुले बाजार से खरीदना पड़ रहा
X

धमतरी। एक्शन इंडिया न्यूज़

धमतरी जिले में एक दिसंबर से धान खरीदी चल रही है। कई धान खरीदी केंद्रों में परिवहन न होने के कारण जाम की स्थिति बन रही थी। जैसे तैसे परिवहन शुरू हुआ तो अब कुछेक केंद्रों में बारदाना की कमी देखने को मिल रही है, इससे किसानों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। क्योंकि जिस बारदाने की कीमत सरकार 15 रुपये दे रही है, वहीं बारदाना खुले मार्केट में 35 रुपये से 40 में मिल रहा है। ऐसे में किसानों को 25 रुपये तक का नुकसान उठाना पड़ रहा है। किसानों का कहना है कि धान खरीदी केंद्रों में बारदाना की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए, ताकि किसानों को परेशानी का सामना ना करना पड़े।

समर्थन मूल्य पर जिले में 43 लाख 98 हजार क्विंटल धान खरीदने का अनुमानित लक्ष्य है। अब तक जिले के 95 हजार किसानों ने 30 लाख क्विंटल धान बेचा है। 14 लाख क्विंटल और खरीदी की जानी है। इसके लिए सम‍ित‍ियों के पास पर्याप्त मात्रा में बारदाना नहीं है। बारदाने की कमी के कारण किसानों से धान समेत बारदाने की खरीदी की जा रही है। बारदाने काे 15 रुपये में खरीदा जा रहा, जबकि इसका बाजार मूल्य 35 से 40 रुपये है। किसानों को प्रति बारदाने में 20 से 25 रुपये का नुकसान हो रहा। इसके अलावा जिन किसानों के पास बारदाने नहीं होंगे, उन्हें अब धान बेचने के लिए बारदाने बाजार से खरीदकर सोसायटियों में धान समेत बारदाने बेचने होंगे।

जानकारी के अनुसार धमतरी ब्लाॅक के ग्राम कंडेल, भोथली, खरेंगा, भोयना, नगरी ब्लाक के माकरदोना, मगरलोड ब्लाक के ग्राम बड़ीकरेली, खिसोरा सहित अन्य धान खरीदी केंद्र में बारदाने की कमी बनी हुई है। इसी तरह समीपस्थ बालोद जिला के ग्राम पुरुर स्थित मिर्रीटोला धान खरीदी केंद्र व उपकेंद्र कनेरी में बारदाने की कमी बनी हुई है। किसान अधिक कीमत देकर बारदाना खरीद रहे हैं। मोंगरागहन में भी किसान बारदाना खरीद रहे हैं।

तीन दिन पहले जिला पंचायत सदस्य खूबलाल ध्रुव नगरी ब्लाॅक के ग्राम पंचायत मोंगरागहन के धान खरीदी केंद्र का निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान किसानों ने कहा कि खरीदी केंद्रों में बारदाने नहीं होने के कारण परेशानी हो रही है। किसानों का बारदाना खरीदा जा रहा है। इसे 15 रुपये में खरीदा जा रहा है, जबकि बाजार में इसका मूल्य 40 रुपये तक है। किसानों को 25 रुपये नुकसान हो रहा।

खूबलाल ध्रुव ने कहा कि प्रदेश सरकार को बारदाने की पर्याप्त व्यवस्था करनी चाहिए। बाजार मूल्य के अनुसार बारदाने का दाम दिया जाए। छत्तीसगढ़ किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष घनाराम साहू ने कहा कि राज्य सरकार 15 रुपये में किसानों का बारदाना खरीद रही है, जबकि 40 रुपये तक बारदाने का दाम बाजार में है। बाजार मूल्य अनुसार किसानों को 40 रुपये दिया जाए। समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए 17 दिन बचे हुए हैं। चार दिन छुट्‌टी रहेगी। 13 दिन खरीदी केंद्रों में धान की खरीदी की जाएगी। जिले में 95 हजार किसानों ने धान बेचा है। लगभग 16 हजार किसान अब तक धान नहीं बेच पाए। इसके अलावा 2.5 एकड़ से अधिक रकबे वाले किसान जनवरी महीने में टोकन कटवा रहे। जिले में 14 लाख क्विंटल और खरीदी करनी है।

वहीं धमतरी ज‍िला व‍िपणन अध‍िकारी क‍िशोर कुमार देवांगन ने कहा क‍ि धमतरी जिले के धान खरीदी केंद्रों में बारदाना की कमी नहीं है। कहीं पर ज्यादा तो कहीं पर कम हो सकता है, इसे एडजस्ट करना है।

Next Story
Share it