Top
Action India

रायगढ़ : अस्तित्व खो रहा कबरा पहाड पुरातत्व स्थल

रायगढ़ : अस्तित्व खो रहा कबरा पहाड पुरातत्व स्थल
X

रायगढ़। एक्शन इंडिया न्यूज़

गायब हो रहीं लाल छिपकली और पंक्तिबद्ध मानव आकृतियां पुरापाषाण काल के दृश्यों को संजोए हुए कबरा पहाड़ आज प्रशासनिक अनदेखी व लापरवाही की वजह से अपना अस्तित्व खोता जा रहा है। यहां कई शैल चित्र अब धुंधली होती जा रही हैं।

आलम यह है कि यहां प्रेमी युगल आकर इन ऐतिहासिक व अनमोल शैलाकृतियों पर अपना नाम लिख कर इसे खराब कर रहे हैं, इसके अलावा यह स्थान नशाखोरी करने वालों का अड्डा बना हुआ है। इन सब के बावजूद भी प्रशासनिक अमला इन पर कार्रवाई करने के बजाए अनजान बने बैठा है।

मुख्य बात तो यह है कि पुरात्व विभाग भी कबरा पहाड़ की बिगड़ती दशा को सही करने की ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कबरा पहाड़ पुरापाषाण कालीन स्थल है, जिसमें कई प्रकार की शैलाकृतियां बनी हुई हैं। जिनका सरंक्षण नहीं होने की वजह से यह काफी तेज गति से खत्म होती जा रही हैं। ग्रामीणों के अनुसार पहले इस पहाड़ी पर उकेरी गई भित्ती चित्र काफी गहरे लाल में दिखती थी, लेकिन अब यह धुंधली होती जा रही हैं।

यहां पुरापाषाण कालीन कई तरह की आंकृतियां बनाई गई थी, जो आज भी देखने को मिलती हैं, लेकिन प्रशासनिक अनदेखी व लापरवाही की वजह से यह भित्ती चित्र अब गायब हो रहे हैं। इसमें सबसे अहम बात यह है कि कबरा पहाड़ में अक्सर प्रेमी जोड़े आते हैं कोयले व रंगीन पेंट से अपने लिख कर इन भित्ती चित्रों को पूरी तरह से नष्ट कर रहे हैं।

वहीं इन पुरातात्विक प्रतीकों व आकृतियों के साथ छेड़छाड़ करने वालों पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है।

इस पूरे मामले पर कलेक्टर भीम सिंह का कहना है क‍ि, कबरा पहाड़ की भित्ती चित्रों को सुरक्षित करने को लेकर एक योजनाबद्ध तरीके से कार्य किए जाने की जरूरत है। यहां बने भित्ती चित्र अनमोल हैं, लिहाजा इसके लिए उच्चाधिकारियों से चर्चा कर इसे सुरक्षित करने के लिए कार्य किए जाएंगे।

Next Story
Share it