Action India

सत्ता का विकेंद्रीकरण कर रही है भाजपा, लोगों को फैसले लेने में बना रही है सक्षम: रमन सूरी

सत्ता का विकेंद्रीकरण कर रही है भाजपा, लोगों को फैसले लेने में बना रही है सक्षम: रमन सूरी
X

जम्मू। एक्शन इंडिया न्यूज़

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पार्टी की प्रदेश कार्यकारी समिति के सदस्य रमन सूरी ने मंगलवार को कहा कि जम्मू और कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश के जिला विकास परिषद (डीडीसी) सदस्यों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम और निर्वाचित सदस्यों के लिए मानदेय को अंतिम रूप देना इस बात का संकेत है कि केंद्र में भाजपा सरकार केवल सत्ता का विकेंद्रीकरण ही नहीं कर रही है बल्कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को निर्णय लेने वाली संस्थाओं का हिस्सा बनने और लोगों की इच्छा के अनुसार अपने स्थानों को विकसित करने में सक्षम बना रही है।

रमन सूरी ने कहा कि कांग्रेस, पीडीपी या नेकां के विपरीत भाजपा आम लोगों को सशक्त बना रही है और शासन की त्रिस्तरीय व्यवस्था को मजबूत कर रही है। उन्होंने कहा कि इन राजनीतिक दलों ने न तो इन संस्थानों के चुनावों को नियमित रूप से आयोजित किया और न ही उन्हें किसी भी तरह से सशक्त बनाया। यही कारण था कि पार्टी के कार्यकर्ता हमेशा विकास में उनके योगदान से वंचित थे।

रमन सूरी ने कहा कि वास्तविक लोकतंत्र सत्ता के विकेंद्रीकरण में निहित है और भाजपा वही कर रही है। उन्होंने कहा कि चेयरमैन, वाइस-चेयरमैन, और डीडीसी के सदस्यों का मानदेय राजनीतिक इच्छाशक्ति को प्रोत्साहित करने का संकेत है, जिसमें चुने गए प्रतिनिधि अपने लोगों के लिए काम करेंगे। यह मानदेय भ्रष्टाचार को भी हतोत्साहित करेगा।

उन्होंने कहा कि धारा 370 को निरस्त करने के बाद जेकेयूटी में हुआ यह बुनियादी घटनाक्रम है। उन्होंने कहा कि जो लोग यह कह रहे हैं कि 5 अगस्त, 2019 के बाद क्या हो रहा है तो उनको यह देखना होगा कि लोग किस तरह से विकास के मुद्दों को लेकर भागीदारी कर रहे हैं, लोकतंत्र मजबूत हो रहा है, संस्थान जीवंत हो रहे हैं, केंद्रीय कानून लोगों को सशक्त बना रहे हैं और जिन्होंने लोगों को गुमराह किया वे खामोश हैं।

रमन सूरी ने कहा कि एक बार जब ये संस्थान अपनी पूरी क्षमता से काम करना शुरू कर देंगे और साथ ही साथ शहरी स्थानीय निकाय भी नए कार्यभार संभालेंगे, तो शहरों के साथ-साथ गाँवों का चेहरा भी काफी बदल जाएगा, जिससे जम्मू और कश्मीर हमारे देश के किसी अन्य शहर के बराबर फलने-फूलने लगेंगे। उन्होंने कांग्रेस, नेकां और पीडीपी की आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने पिछले कुछ दशकों से आम लोगों को ऐसे विकासात्मक मुद्दों से दूर रखा और केवल कुछ चुनिंदा लोगों तक ही अधिकारों को केंद्रीकृत रखा।

उन्होंने कहा कि यह नए युग की शुरुआत है, जहां लोग अपने भाग्य के बारे में फैसला करेंगे और धन सीधे इन निर्वाचित निकायों में जाएंगे। लोगों को सांसदों, विधायकों या अन्य लोगों के सामने भीख नहीं माँगनी पड़ेगी बल्कि वे अपने गाँव और कस्बों के बारे में खुद तय करेंगे। उन्होंने कहा कि यह व्यवस्था नई है लेकिन जम्मू और कश्मीर के लिए अपने विकास और समृद्धि के इतिहास को लिखने के लिए बिल्कुल अनुकूल है।


Next Story
Share it