Action India

'पत्रकारों को कोरोना योद्धा घोषित करते हुए सभी को कोरोना वैक्सीनेशन की सुविधा दी जाए: जम्वाल'

पत्रकारों को कोरोना योद्धा घोषित करते हुए सभी को कोरोना वैक्सीनेशन की सुविधा दी जाए: जम्वाल
X


उधमपुर। एक्शन इंडिया न्यूज़

जिस दिन से कोरोना-19 की महामारी ने सारी दुनिया को अपनी चपेट में लिया हुआ है, उसी दिन से इस महामारी की रोकथाम, लोगों को सुरक्षित रखने और राहत पहुँचाने के लिए सरकारी कर्मचारी जैसे की हैल्थ वर्कर, सफाई कर्मचारी, बैंक के कर्मचारी, आर्मी के जवान व दूसरे वर्दीधारी या कोरोना की जंग में खड़े दूसरे कर्मचारी अपना फर्ज निभा रहे हैं और सरकार ने इन्हें 'कोरोना योद्धा' एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स का दर्जा दिया हुआ है। परंतु वहीं इसी दिशा में एक अति महत्वपूर्ण अंग जिसे लोकतंत्र का चैथा स्तम्भ भी कहा जाता है भी अपनी जान हथेली पर रख कर 24 घंटे काम कर रहा है। प्रशासन द्वारा इनको स्पैशल पास भी जारी किए जाते हैं। इन्हीं द्वारा रिपोर्टिंग के जरिए सरकार के दिशा निर्देश कोरोना के लॉकडाउन के दौरान आम जनता तक पहुंचाए जाते हैं और जनता को पेश आ रही कठिनाइयों को एड्मिनिसट्रेशन तक पहुंचाते हैं। परंतु सरकार ने मीडिया बिरादरी को अभी तक 'कोरोना योद्धा'् 'फ्रंटलाइन वर्कर्स' घोषित नहीं किया है। उक्त बातें महादीप सिंह जम्वाल पूर्व पुलिस अधीक्षक व वर्तमान प्रेसिडेंट सीनियर सिटीजन क्लब ऊधमपुर ने एक प्रैस वार्ता के दौरान कहीं।

उन्होंने सरकार से आग्रह किया कि पत्रकार बिरादरी को भी 'कोरोना योद्धा' 'फ्रंटलाइन वर्कर्स' घोषित किया जाए जैसे की भारत के बहुत से राज्यों की सरकारें ऐसा कर चुकी हैं और उन्हें टीकाकरण कार्यक्रम में प्राथमिकता देने का फैसला किया है।

जम्वाल ने कहा कि यह भी उनके संज्ञान में आया है कि विशेष रूप से उधमपुर जिले में ग्राउंड जीरो से काम करने वाले अधिकांश पत्रकारों की आयु 18 से 45 वर्ष के बीच है। क्योंकि इस आयु वर्ग के लिए ऊधमपुर में अभी टीकाकरण आरंभ नहीं हुआ है, इसलिए प्रशासन से अनुरोध है कि इस पत्रकार बिरादरी को एक विशेष श्रेणी के रूप में मान्यता देते हुए उम्र के विचार के बिना इन्हें टीकाकरण की सुविधा तुरंत प्रदान की जाए ताकि वह भी खुद व अपने परिवार को सुरक्षित महसूस करते हुए अपनी जिम्मेदारियों को निभा सकें।


Next Story
Share it