Action India

कुलगाम मुठभेड़ में लश्कर का एक विदेशी आतंकी ढेर, दो जवान घायल

कुलगाम मुठभेड़ में लश्कर का एक विदेशी आतंकी ढेर, दो जवान घायल
X
  • आतंकियों को भागने का मौका देने के लिए स्थानीय लोगों ने किया प्रदर्शन
  • फायरिंग के बीच प्रदर्शनकारियों में शामिल दो युवकों को भी लगी गोली

कुलगाम। एक्शन इंडिया न्यूज़

जिले के मलपोरा मीर बाजार में गुरुवार शाम से शुक्रवार सुगह तक चली मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक विदेशी आतंकी को मार गिराया है, जबकि दूसरा आतंकी अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल रहा है। मुठभेड़ में दो जवान भी घायल हुए हैं। इसके अलावा आतंकियों को भगाने का प्रयास में प्रदर्शन कर रहे दो युवक भी घायल हुए हैं। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फरार आतंकी की तलाश में सुरक्षा बल तलाशी अभियान चला रहे हैं। आतंकवादी के शव के पास से एक एके-47 राइफल, चार मैगजीन, कुछ हथगोले और एक आरपीजी लांचर सेल भी बरामद हुआ है।


दरअसल, गुरुवार दोपहर में श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित मलपोरा मीरबाजार काजीगुंड इलाके में आतंकियों ने बीएसएफ के जवानों के वाहनों पर हमला किया था। इसके बाद सुरक्षा बलों ने जवाबी फायरिंग की। इस बीच आतंकी मौके से भाग कर पास की एक बहुमंजिला इमारत में घुस गए गए। सुरक्षाबलों ने इमारत को घेर लिया और राजमार्ग पर आवागमन बंद कर दिया। गोलीबारी के बीच सुरक्षाबलों ने मौके पर फंसे लोगों को भी निकाल कर उन्हें सुरक्षित स्थान पर भेज दिया। पूरी रात रूक-रूक कर गोलीबारी होती रही। शुक्रवार सुबह आतंकियों ने गोलीबारी तेज कर दी। इस दौरान सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया। मुठभेड़ में मारे गए आतंकी की पहचान विदेशी नागरिक उस्मान के रूप में हुई और वह लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य था। सुरक्षाबलों ने आतंकी के शव के पास से एक एके-47 राइफल, चार मैगजीन, कुछ हथगोले और एक आरपीजी लांचर सेल बरामद किया हैं।


आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने मुठभेड़ के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि रात से लेकर तड़के सुबह तक गोलीबारी होती रही। आज सुबह सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने का मौका दिया परंतु वे नहीं माने। मुठभेड़ में एक आतंकी को मार गिराया गया। मारा गया आतंकी विदेशी है और उसकी पहचान उस्मान के रूप में हुई है। वह लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा था। वह स्वतंत्रता दिवस से पहले सुरक्षाबलों पर एक बड़े हमले की योजना बना रहा था। आईजीपी ने बताया कि दूसरा आतंकी मुठभेड़ स्थल से भागने में सफल रहा। उसकी तलाश की जा रही है। आईजीपी ने बताया कि लंबे समय बाद विदेशी आतंकियों ने आरपीजी का इस्तेमाल किया। जवानों की सतर्कता से एक बड़ा हादसा टल गया।


बताया गया कि मुठभेड़ के दौरान स्थानीय युवाओं ने एकत्र होकर आतंकियों को भागने का मौका देने के इरादे से प्रदर्शन किया और देश विरोधी नारेबाजी भी की। मुठभेड़ के इसी दौरान गोलीबारी की चपेट में आने से में स्थानीय दो युवक भी घायल हुए हैं। घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है। घायल युवकों की पहचान साहिल याकूब और शाहिद फारुक के रूप में हुई है। मुठभेड़ में दो सुरक्षाकर्मी भी गोली लगने से घायल हुए हैं। घायल जवानों में से एक की पहचान सीआरपीएफ के उमेश सिंह पुत्र प्रभु सिंह निवासी झारखंड के रूप में हुई है।

Next Story
Share it