Action India
झारखंड

उपायुक्त ने की कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर बैठक, दिए कई दिशा निर्देश

उपायुक्त ने की कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर बैठक, दिए कई दिशा निर्देश
X

रांची। एक्शन इंडिया न्यूज़


रांची के उपायुक्त छवि रंजन ने सोमवार को कोविड-19 के वैक्सीनेशन से संबंधित तैयारी को लेकर बैठक आयोजित की। बैठक में जिला के विभिन्न प्रखंडों में अलग-अलग वैक्सीनेशन सेंटर बनाए जाने को लेकर चर्चा की गई। वैक्सीनेशन साइट कहां होंगे, वैक्सीनेशन सेंटर पर व्यवस्था कैसी होगी, इसे लेकर पदाधिकारियों ने विचार-विमर्श किया।

बैठक के दौरान उपायुक्त छवि रंजन ने प्रत्येक प्रखंड में वैक्सीनेशन सेंटर के लिए आवश्यकतानुसार भवनों को चिन्हित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी के साथ बैठक कर भवनों को चिन्हित करें। साथ ही उन्होंने भवनों के नक्शे के साथ भी रिपोर्ट समर्पित करने का निर्देश दिया । बैठक में उपायुक्त ने कहा कि वैक्सीनेशन सेंटर में थ्री प्लस वन अरेंजमेंट होनी चाहिए। साथ ही पानी, बिजली इंटरनेट कनेक्टिविटी और शौचालय की व्यवस्था भी वैक्सीनेशन सेंटर में सुनिश्चित की जानी चाहिए।

उपायुक्त ने बताया कि जारी दिशा निर्देशों के अनुसार वैक्सीनेशन सेंटर में हेल्प डेस्क एरिया, वेटिंग एरिया, वैक्सीनेशन रूम और ऑब्जर्वेशन रूम होने चाहिए। उन्होंने वैक्सीनेशन के लिए प्रत्येक सेंटर में मैनपावर की आवश्यकता से संबंधित रिपोर्ट के साथ अगली बैठक में उपस्थित होने का निर्देश संबंधित पदाधिकारी को दिया। बैठक के दौरान डब्ल्यूएचओ के डॉ अनूप ने पीपीटी के माध्यम से वैक्सीनेशन सेंटर की व्यवस्था के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एक वैक्सीनेशन सेंटर में चार वैक्सीनेशन ऑफिसर और एक वैक्सीनेटर होंगे। सेंटर पर आने वाले लाभार्थियों का वेरिफिकेशन करने के बाद कोविन एप्लिकेशन पर उनके रिकॉर्ड की एंट्री की जाएगी।

वैक्सीनेशन पर सेंटर पर आने वाले लाभार्थियों की पहचान फोटोयुक्त पहचान पत्र के माध्यम से की जानी है। पहले फेज में कोविड-19 वैक्सीनेशन के दौरान तीन प्रायरिटी ग्रुप बनाए गए हैं। प्रायरिटी ग्रुप वन में हेल्थ केयर वर्कर्स हैं, प्रायरिटी ग्रुप दो में फ्रंटलाइन वर्कर और प्रायरिटी ग्रुप थ्री में 50 साल और उससे ज्यादा उम्र के लोग हैं। बैठक में सिविल सर्जन, उपाधीक्षक सदर अस्पताल , जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी, ज़िला शिक्षा अधीक्षक, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी, जिला सूचना पदाधिकारी, जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी उपस्थि थे।

Next Story
Share it